Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

रहें न रहें हम, महका करेंगे…

मजरूह सुल्तानपुरी की जयंती 1 अक्टूबर पर विशेष -फ़िरदौस ख़ान गीत जब ज़ुबान पर चढ़ जाते हैं, तो वे सीधे दिल की गहराइयों में उतर जाते हैं. यह गीत के शब्दों का
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ज़िन्दगी की सांझ में बुज़ुर्गों का सहारा बनें

अंतरराष्ट्रीय बुज़ुर्ग दिवस (एक अक्टूबर) पर विशेष -फ़िरदौस ख़ान मां-बाप बड़े लाड़-प्यार से बच्चों की परवरिश करते हैं। उन्हें अच्छे से अच्छा खिलाने-पिलाने की कोशिश करते हैं। ख़ुद पुराने कपड़े बरसों तक
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

स्वधर्म पर विधर्म के हमले को रोकने की एक कोशिश है भारत जोड़ो यात्रा

योगेंद्र यादव ‘‘भारत के स्वधर्म पर हो रहे विधर्म के घातक हमले को रोकने की एक कोशिश है भारत जोड़ो यात्रा।’’ मेरा यह संक्षिप्त सा जवाब था यात्रा के दौरान बार-बार इसके
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

भारत जोड़ो यात्रा ने खोले दक्षिणायन के द्वार

योगेंद्र यादव क्या आपने दुनिया का दक्षिणाभिमुखी (साऊथ-अप) नक्शा देखा है? नहीं तो यहां क्लिक करके देखिए. दुनिया को देखने का नजरिया दक्षिणाभिमुखी नक्शे से एकदम उलट जाता है. अब तक नीचे
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

क्या दलबदलुओं का साथ दे सकते हैं भगवान?

तौक़ीर सिद्दीक़ी दलबदल एक तरह से चुनावी अपराध है क्योंकि आप को जनता ने जिस पार्टी के नाम पर वोट देकर जिताया और आपने बाद में उन वोटरों के साथ विश्वासघात करके
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

अपनी भाषा हिन्दी पर गर्व करें

-फ़िरदौस ख़ान हर भाषा की अपनी अहमियत होती है। फिर भी मातृभाषा हमें सबसे प्यारी होती है, क्योंकि उसी ज़ुबान में हम बोलना सीखते हैं। बच्चा सबसे पहले मां ही बोलता है।
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

‘भारत जोड़ो यात्रा’: बोहनी तो अच्छी हुई

-योगेन्द्र यादव यात्रा कैसी चल रही है? कुछ असर दिखाई दिया? चुनाव में फायदा होगा? कुछ हासिल होगा भी या नहीं? जब से ‘भारत जोड़ो यात्रा’ कन्याकुमारी से रवाना हुई है तब
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

जनांदोलनों और राजनीतिक दलों की ऊर्जा जोड़ने की जरूरत

योगेंद्र यादव जैसे ही संयुक्त किसान मोर्चा की समन्वय समिति से मेरे इस्तीफे की खबर चलनी शुरू हुई, कई शुभचिंतकों के फोन आने शुरू हो गए: ‘क्या हुआ? कोई मनमुटाव हो गया
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

भारत जोड़ो का दर्शन : वो तोड़ेंगे, हम जोड़ेंगे

योगेंद्र यादव नए भारत जोड़ो का क्या चक्कर चलाया है, आंदोलनजीवी जी? किस भारत को जोड़ोगे आप? देख नहीं रहे, राष्ट्र तो अपने आप एकजुट हो रहा है। आपको देश जोडऩे की
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

प्रतिपक्ष खड़ा करने की शुरुआत है भारत जोड़ो यात्रा

योगेंद्र यादव देश को एक पुल की ज़रूरत है, एक ऐसे राजनीतिक पुल की जो विपक्षी राजनीतिक दलों को जमीनी आंदोलनों से जोड़े. पिछले हफ्ते एक झलक मिली कि ऐसा पुल अपने