Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

यूपी तो है ही नंबर वन!

(व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा) धनखड़ साहब गलत थोड़े ही कहेंगे। वह भी गौतम बुद्ध के नाम वाली यूनिवर्सिटी के डिग्रीधारी स्टूडेंट्स के बीच। यूपी है ही नंबर वन। यानी पहले की नहीं
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

न्याय संहिता के अन्याय को परिवहन मजदूरों की चुनौती

(आलेख : राजेंद्र शर्मा) मोदी सरकार द्वारा हाल में पारित कराए गए कथित ‘‘नये’’ अपराध कानूनों में, जिनका औपनिवेशिक कानूनों से ‘‘मुक्ति’’ के रूप में खूब ढोल पीटा जा रहा है, अब
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

आरएसएस पूर्वी राज्यों में राज्य विशेष चुनावी रणनीति पर काम कर रहा है

मोहन भागवत ने आरएसएस कार्यकर्ताओं से बंगाल में चुनाव मशीनरी का नियंत्रण अपने हाथ में लेने को कहा है अरुण श्रीवास्तव (मूल अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद: एस आर दारापुरी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, आल
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

मोदी-योगी राज में भारतीय महिलाएं लगातार असुरक्षित और गुलाम बनी हुई हैं

बीएचयू रेप केस: बीजेपी के युवा नेताओं पर केस दर्ज करने में देरी से उजागर हुआ पाखंड अरुण श्रीवास्तव द्वारा (मूल अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद: एस आर दारापुरी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, आल इंडिया
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

बच गया 2024 का जश्न!

(व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा) शुक्र है, नये साल का जश्न बच गया। 2024 चाहे कुछ भी लेकर आए, भारत में तो अब उसका स्वागत ही होगा। वर्ना नये साल के जश्न पर
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

आएगा तो 2024 ही!

(व्यंग्य : राजेंद्र शर्मा) लीजिए, दिसंबर का आखिरी हफ्ता लगा नहीं कि फिर ससुर पैगासस आ गया। महीनों पहले एप्पल वालों ने कई नेताओं, पत्रकारों वगैरह को चेतावनी दी थी कि सरकारनुमा
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

एक जोड़ी जूते के नीचे दबा दबदबा

बादल सरोज जूतों और मनुष्य समाज का साथ नया नहीं है – होने को तो जब से आदिमानव ने चलना सीखा होगा, तभी से पंजों के निचले हिस्से के बचाव के लिए
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

कांग्रेस को हारना ही था, शायद आगे भी हारे

(कँवल भारती) राजनीति में हार-जीत लगी रहती है, लेकिन मौजूदा राजनीति में, राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्यों में कांग्रेस की हार ख़ास मायने रखती है। और वह इसलिए कि कांग्रेस की यह
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

दक्षिण को जीतने की भाजपा की भव्य योजना 3 दिसंबर के बाद खटाई में पड़ सकती है

अरुण श्रीवास्तव द्वारा (मूल अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद: एस आर डारापुरी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, आल इंडिया पीपुल्स फ्रन्ट) यदि तेलंगाना से संबंधित पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के एग्जिट पोल पर विश्वास किया
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

अपने पसंदीदा चुनावी आधार को शिक्षा से वंचित करने की मोदी की योजना

दलित, अनुसूचित जाति, आदिवासियों की प्रमुख छात्रवृतियां बंद अरुण श्रीवास्तव (मूल अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद: एस आर दारापुरी, राष्ट्रीय अध्यक्ष, आल इंडिया पीपुल्स फ्रन्ट) आरएसएस-भाजपा की राजनीतिक धारणा के प्रबंधन में दलितों