Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ज़मीन हिलती थी और आसमान रोता था

ज़मीन हिलती थी और आसमान रोता था,ज़मीने गर्म पे सिब्ते नबी का लाशा था। आज की तारीख़ इसलाम की सरबुलंदी और यज़ीदी मुसलमानों की पस्ती की है। इमाम हुसैन तीन दिन के
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

यौमे आशूरह का पैग़ाम उम्मते मुस्लिमा के नाम

मोहम्मद आरिफ नगरामी आज यौमे आशूरह है। आज का दिन जमाने कदीम से काफी अहमियत का हामिल रहा है। बाज रवायात के मुताबिक उसी दिन हजरत आदम अ. को दुनिया मं उतार
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

लहरा रहा है परचम हुसैन का ( 9 मुहर्रम पर विशेष)

-फ़िरदौस ख़ान अल्लाह के रसूल हज़रत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के नवासे इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम ने कर्बला की जंग में अपनी और अपने ख़ानदान की क़ुर्बानी देकर अल्लाह के उस दीन को
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

इमाम हुसैन किसी मिल्लत, मज़हब या मुल्क की जागीर नहीं

हुसैन से मिली इंसानियत को ऐसी हयात,यज़ीद आते रहे पर उसे मिटा न सके। आज मुहर्रम की सातवीं तारीख़ है। आज ही के दिन से रसूल ख़ुदा मोहम्मद मुस्ताफ़ा (स) के निवासे
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ख़ूने अबूतालिब की क्या शान निराली है

ख़ूने अबूतालिब की क्या शान निराली है,इस्लाम बचाने को यह काम सदा आया। आज मुहर्रम की छठवीं तारीख़ हैं। जैसे जैसे दिन गुज़र रहे हैं करबला का वह ख़ूनी मंज़र दिलो दिमाग
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

लखनऊ का मुहर्रम और अज़ादारी सारी दुनिया मेें मशहूर है

मोहम्मद आरिफ नगरामी माहे मुहर्रम कमरी कलेण्डर का पहला महीना है और इस महीने की दसवीं तारीख को करबला के मैदान में नवासये रसूल सल0 हजरत हुसैन रजि0 मय अपने 72 अइज्जा
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

केवल सत्य का निर्वचन हिन्दू दर्शन का उद्देश्य नहीं

ह्रदय नारायण दीक्षित भारतीय राष्ट्रजीवन में आनंदमय जीवन की अभिलाषा है। इस अभिलाषा को पूरा करने की आचार संहिता भी है। यह संहिता हिन्दू धर्म है। इस आचार संहिता में हिंसा का
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

इमाम हुसैन ने अपने ख़ून से जो लकीर खींची उसे आज तक कोई न मिटा सका

जहां चुनी गई फिर से हरम की बुनियादें,फ़क़त वो करबोबला की ज़मीन दिखती है। आज मुहर्रम की पांचवीं तारीख़ है, इमाम हुसैन अलैहिस्लाम को कर्बला आये तीन दिन गुज़र चुके हैं। इमाम
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

इस्लाम तख़्ते शाम के नीचे दबा था जब…

इस्लाम तख़्ते शाम के नीचे दबा था जब,सर दे के तब हुसैन ने गोदी में ले लिया। आज मोहर्रम की चौथी तारीख़ है। इमाम हुसैन को करबला में आये हुए दो दिन
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

ज़मीने करबोबला पर हुसैन आते हैं

ज़मीने करबोबला पर हुसैन आते हैं,ख़ुदा के दीन के हर पहलू को दिखाते हैं। आज मोहर्रम की तीसरी तारीख़ है, कल ही निवासए रसूल हज़रत इमाम हुसैन इराक़ के तपते बन करबला