Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

आखिर क्यों?औद्योगिक क्षेत्रों से मजदूर पलायन के लिए हुआ मजबूर।

(मुश्ताक़ अली अंसारी) लाकडाउन के बाद दिल्ली से मजदूरों के पलायन के बाद अपनी असफलता छुपाने के लिए सरकार समुदाय विशेष को कोरोना...
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

62 फीसदी के पास नहीं है राशन और दवा खरीदने के भी पैसे: सर्वे

देश में जारी लॉकडाउन की वजह से विभिन्न समूहों-सामाजिक, आय, आयु, शिक्षा, धर्म और जेंडर के 62.5 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उनके पास...
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

खेती- कहीं देर ना हो जाए

राजीव त्यागी राष्ट्रीय प्रवक्ता, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस औद्योगिक इकाइयों से लेकर सभी संस्थाएं अपना मुकम्मल पाने के लिए...
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

इबादतों, मुनाजातों और दुआओं की ख़ुसूसी रात शबे-बराअत

मोहम्मद आरिफ नगरामी माहे शाबान की हर शब और हर दिन बड़ा मुकद्स और मताबर्रिक है लेकिन इसी 15वीं शब मुबारक तरीन शब है इस शब को आम...
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

हज़रत निजामुद्दीन औलिया, जिन्होंने खुदा की इबादत के साथ आपसी रवादारी बनाए रखने के शिक्षा दी

3 अप्रैल पुण्यतिथि पर विशेष हिंदुस्तान के दिल्ली शहर में कई पीरों, फकीरों और मज़हबी आलमी की आमद हुई, जिन्होंने हिंदुस्तान के...
Tweet about this on TwitterShare on LinkedInEmail this to someoneShare on FacebookShare on Whatsapp

काई, कैरी और काॅरोना

एन. सिंह सेंगर, समाजसेवी कोरोना शब्द का तात्त्पर्य वस्तु पर उसका उत्सर्जित झाग आवरण है। जो सजीव या निर्जीव वस्तु को ठीक उसी...