भाजपा नेता विजय गोयल ने तोड़ा नियम, कटा चालान

भाजपा नेता विजय गोयल ने तोड़ा नियम, कटा चालान

इंश्योरेंस और लाइसेंस भी नहीं निकला पास 

नई दिल्ली। दिल्ली में आज ऑड ईवन की अग्निपरीक्षा है और इसी के साथ इस पर सियासत भी शुरू हो गई है। बीजेपी सांसद विजय गोयल ने ऑड ईवन नियम तोड़ने का ऐलान कर दिया है और ऑड नंबर की कार लेकर निकले जिस पर उनका चालान कर दिया गया।

नियम अनुसार विजय गोयल का 2000 रुपये का चालान कटना था, लेकिन उनका 3500 रुपये का चालान काटा गया। 2000 ऑड ईवन नियम तोड़ने का और 1000 इंश्योरेंस और 500 रुपये बिना लाइसेंस का।

इससे पहले दिल्ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय खुद 10 अशोक रोड विजय गोयल से मिलने पहुंचे। गोपाल राय ने गुलाब का फूल विजय गोयल को दिया और उनसे नियम का पालन करने की गुजारिश की। बता दें कि गोपाल राय ने पहले ही कह दिया था कि हम दो बार विजय गोयल को फूल देकर मनाएंगे तीसरी बार उनका चालान काटा जाएगा।

गोपाल राय ने फूल दिया तो गोयल ने उन्हें बुके पेश कर दिया। इसके बाद दोनों ने ऑड ईवन पर एक दूसरे से बात की और एक दूसरे को समझाते हुए नजर आए। गोपाल राय ने कहा, आप नियम न तोड़िए, बच्चों पर गलत असर पड़ेगा। इस पर विजय गोयल ने कहा, मेरा विरोध ऑड ईवन स्कीम से है ही नहीं। मेरा विरोध तो विज्ञापन दे कर पैसे की बर्बादी से है।   

फूल देने के बावजूद विजय गोयल नहीं माने और ऑड नंबर की कार लेकर निकल पड़े। इस पर पुलिस ने उनका चालान किया, उधर समर्थक नारे लगाते रहे। विजय गोयल ने कहा कि मैं हर रोज़ अपना विरोध किसी न किसी तरह दिखाउंगा जब तक सरकार अपने होर्डिंग्स वापस नहीं ले लेती और अपना प्रचार प्रसार बंद नहीं करती। जनता का पैसा बर्बाद कर रही है सरकार।

विजय गोयल ने कहा कि हर विज्ञापन पर अपना चेहरा लगाने की क्या जरूरत थी। कितने करोड़ रूपये आपने इस स्कीम के नाम पर फूंके। ये पैसे मुख्यमंत्री की जेब से लिया जाना चाहिए। इस योजना का प्रदूषण से तो कोई लेना देना नहीं है। दिल्ली बोले दिल से- लूट मार फिर से। इसे एक बार में ही लागू क्यों नहीं कर देते, ऐसा ये इसीलिए करते है ताकि बार बार विज्ञापन दे सके।

वहीं गोपाल राय ने कहा कि जब बीजेपी का इतना बड़ा नेता नियम तोड़ने की बात कर रहा है तो ये बहुत दुख की बात है। आज बच्चों ने मुझे फोन किया तो मैं उनसे मिलने आया। ऑड ईवन को तोड़ना गलत है। उम्मीद है विजय जी विचार करेंगे। मोदी जी के बैनर उतारे जाएंगे पहले।

India