दिल्ली हाट में मिलेगा अवधी कबाब का ज़ायका

दिल्ली हाट में मिलेगा अवधी कबाब का ज़ायका

नवनीत सहगल ने किया कबाब फेस्टिवल और यू0पी0 हैण्डीक्राफ्ट मेले का उद्घाटन 

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव एवं महानिदेशक पर्यटन नवनीत सहगल द्वारा आज दिल्ली स्थित ‘दिल्ली हाट’ में अवधी कबाब फेस्टिवल और यू0पी0 हैण्डीक्राफ्ट मेले का उद्घाटन किया गया। लज़ीज़ खाने के साथ-साथ शिल्प का यह अनूठा कार्यक्रम ‘दिल्ली हाट’ की उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की स्टाॅल नं0-7 ‘दरबार-ए-अवध’ में आयोजित किया गया है। यह आयोजन आगामी 30 अप्रैल तक चलेगा।

कबाब फेस्टिवल में प्रस्तुत किए जा रहे व्यंजन लखनऊ के नवाबों के परम्परागत खानसामा परिवार की वर्तमान पीढ़ी के प्रतिनिधि श्री जहीर अहमद और उनकी टीम द्वारा तैयार किए जाएंगे। कबाबों के विविध व्यंजन जैसे-शामी कबाब, गलावटी कबाब, काकोरी कबाब, बोटी कबाब इत्यादि पोटली मसालों (60 तरह के मसालों से तैयार) से बनाए जाएंगे। इसके अलावा, लखनऊ की मशहूर दम बिरयानी, लगन मुर्ग, अवधी गोश्त, फिरनी आदि का आनन्द भी लोग उठा सकेंगे।

व्यंजन के अतिरिक्त उत्तर प्रदेश के विविध शिल्प के 25 नामी-गिरामी शिल्पियों द्वारा अपनी हस्तकला उत्पादों का प्रदर्शन एवं विक्रय किया जाएगा। उद्घाटन के अवसर पर सांस्कृतिक संध्या के अन्तर्गत श्री सुनील डोगरा द्वारा सूफी गायन एवं बांसुरी वादन का कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। इस मेले में उत्तर प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों के विषय में आगन्तुकों को जानकारी पर्यटन साहित्य के माध्यम से कियाॅस्क लगाकर दी जाएगी।

उत्तर प्रदेश में पर्यटन की असीम सम्भावनाएं होने के कारण राज्य सरकार द्वारा  पर्यटन को उद्योग घोषित किया गया है। इसके चलते प्रदेश में पर्यटन विकास और प्रचार-प्रसार के अभिनव कार्यक्रम एवं नवीन योजनाओं ने आकार लिया है, जो उत्तर प्रदेश सरकार की विकासपरक कार्य योजना और पर्यटन उद्योग के प्रति प्रतिबद्धता का द्योतक है। 

इन महत्वपूर्ण योजनाओं में आगरा-लखनऊ-वाराणसी पर केन्द्रित हेरिटेज आर्क, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का निर्माण, लखनऊ में जनेश्वर मिश्र पार्क एवं मेट्रो सुविधा, विश्व बैंक सहायतित उ0प्र0 प्रो-पुअर पर्यटन विकास, हेरिटेज पर्यटन नीति का क्रियान्वयन आदि शामिल हैं। यह योजनाएं उत्तर प्रदेश के वृहद् पर्यटन विकास की दृष्टि से जहां प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करती हैं, वहीं प्रदेश की विपुल पर्यटन सम्भावनाओं के दोहन की दिशा में अहम कदम हैं।