सानिया- हिंगस की जोड़ी  विंबलडन के फाइनल में

सानिया- हिंगस की जोड़ी विंबलडन के फाइनल में

लंदन। भारत की सानिया मिर्जा और स्विटजरलैंड की मार्टिना हिंगिस की टॉप सीड जोड़ी ने अमरीका की राकेल कोप्स जोन्स और एबिगेल स्पीयर्स को शुक्रवार को एकतरफा अंदाज में 6-1, 6-2 से पीट कर विंबलडन टेनिस चैंपियनशिप के महिला युगल के फाइनल में प्रवेश कर लिया।

सानिया और हिंगिस ने पांचवीं सीड अमरीकी जोड़ी से यह मुकाबला मात्र 56 मिनट में जीत लिया। टॉप सीड जोड़ी ने विपक्षी टीम को पहले सेट में एक और दूसरे सेट में मात्र दो गेम जीतने का मौका दिया। खिताब की प्रबल दावेदार सानिया-हिंगिस ने मैच में छह ब्रेक अंक हासिल किए और चार बार विपक्षी की सर्विस तोड़ी। अमरीकी जोड़ी को तीन बार ब्रेक के मौके मिले, लेकिन कामयाबी एक बार भी नहीं मिली।

सानिया- हिंगिस ने इस वर्ष मार्च में जोड़ी बनाई थी, जिसके बाद से उन्होंने इंडियन वेल्स, मियामी और चाल्र्सटन के खिताब जीते हैं। सानिया पहली बार विंबलडन के महिला युगल के फाइनल में पहुंची हैं और उनका यह दूसरा ग्रैंड स्लेम फाइनल है। वह 2011 में फ्रेंच ओपन के फाइनल में भी पहुंची थीं। इसके अलावा वह 2012 के आस्ट्रेलियन ओपन और 2013 तथा 2014 के यूएस ओपन के सेमीफाइनल में पहुंची थीं।

भारतीय स्टार मिश्रित युगल में आस्ट्रेलियन, फ्रेंच और यूएस ओपन में मिश्रित युगल में खिताब जीत चुकी हैं, लेकिन उनके पास कोई ग्रैंड स्लेम महिला खिताब नहीं हैं। वह अब महिला युगल खिताब का सपना पूरा करने से एक कदम दूर रह गयी हैं।