स्कोटिशा द्वीप में पांच दशक बाद चोरी की घटना

स्कोटिशा द्वीप में पांच दशक बाद चोरी की घटना

लंदन। छोटे से स्कोटिशा द्वीप में चोरी की घटना ने वहां के निवासियों को हिला के रख दिया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस इलाके में पांच दशकों बाद चोरी हुई है और वह भी यहां स्थित एक मात्र दुकान में। स्कॉटलैंड तट के पास स्थित कान्ना द्वीप में महज 26 लोग रहते हैं। चोरी की इस घटना से पहले यहां कोई अपराध घटित नहीं हुआ था, न ही यहां पर कोई पुलिस स्टेशन है।

द्वीप पर घटी इस विचित्र घटना के तहत चोरों ने दुकान में रखी चॉक्लेट्स, मिठाइयां, कॉफी, बिस्कुट्स, प्रसाधन के सामान और बैट्रियां चुराकर रफूचक्कर हो गए। यही नहीं, चोर दुकान की मालकिन जुली मैक्कैबी द्वारा हाथ से बनाई गई ऊन की टोपियां भी अपने साथ ले गए।

जुली के अलावा इस दुकान को स्वयंसेवक भी मिलकर चलाते हैं। दुकान में जरूरत की अन्य चीजों को भी रखा जाता है। इसे 24 घंटे खुला रखा जाता है ताकि वहां आने वाले नाविक, मछुआरे और नावों में सवार लोग मुफ्त वाई-फाई का इस्तेमाल करने के साथ चाय या कॉफी का सेवन कर सकें।

अगर दुकान में कोई मौजूद नहीं होता है तो खरीददारी करने वाले लोग वहां पड़े नोटपैड मे सामान का नाम लिख देते हैं और होनेस्ट बॉक्स में सामान के बराबर की राशि डालकर चले जाते हैं। चोरी के सामने आने के बाद द्वीप पर रहने वाले लोग काफी नाराज हैं।

कान्ना में अंतिम अपराध 1960 में दर्ज किया गया था जब वहां स्थित रू चर्च से लकड़ी से बनी प्लेट की चोरी हो गई थी। प्लेट को पुलिस आज तक नहीं ढूंढ पाई और न ही चोर को पकड़ पाई। अपने सहयोगी स्टीवर्ट कोन्नर के साथ दुकान चलाने वाली जुली ने बताया कि इस चोरी से यहां रहने वाले सभी लोग नाराज हैं। दुकान से पैसों की चोरी नहीं की गई। चोर सिर्फ दुकान में पड़े अधिकतर सामान को ले गए।

जुली ने बताया कि हम दुकान में सीसीटीवी कैमरा लगाने की सोच रहे हैं, लेकिन अगर हम एसा करते हैं तो यह हमारी ईमानदारी सोच के खिलाफ होगा।