घर वापसी के खेल से देश की एकता की बड़ा नुक्सान: रज़्ज़ाक़ी

घर वापसी के खेल से देश की एकता की बड़ा नुक्सान: रज़्ज़ाक़ी

साहिबाबाद- संप्रदायिक लोगों की ओर से घर वापसी के नाम पर जो खेल खेला जा रहा है उस से देश की एकता व अखंडता को बड़ा नुकसान हो रहा है। इस पर लगाम लगाने की अवश्यक्ता है। उपरोक्त विचार इसलामिक विद्ववान व उलेमा काउंसिल के राष्ट्रीय अध्यक्ष हज़रत मौलाना एजाज़ अहमद खान रज़्ज़ाकी ने मदरसा उसमानिया के तत्वधान में कबूतर चौक सुन्दर नगरी में आयोजित एक विशाल जनसभा में प्रकट किया। मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे मौलाना एजाज़ अहमद खान रज़्ज़्ााकी ने कहा की जब भी देश में कहीं दंगा होता है तो अधिक नुकसान मुस्लिम समुदाय का ही होता है उन्हों ने दंगों को रोकने के लिये ठोस संविधान बनाने की वकालत की।  मौलाना एजाज़ अहमद खान रज़्ज़्ााकी ने वक्फ़ संपत्तीयों को खाली कराने से संबंधित बिल जो लोकसभा में है उस में कुछ बदलाव कर तुरंत पास तथा लागू कराये जाने की मांग की, उन्होने सरकार द्वारा एक्वायर पुराने धरोहर मस्जिदों में नमाज़ अदा करने की अनुमति की भी मांग की है, जलसे कि अध्यक्ष्ता मौलाना शुएैब अंजुम जामेई ने किया मंच का संचालन मौलाना महमूदुल हसन ने किया।  मौलाना रहमतुल्ला कासमी ,मौलाना ज़ुबैर अहमद कासमी , मौलाना गय्यूर कासमी ,मौलाना अनवर जामेई, ताबिश रेहान, मौलाना तय्यब जमाल ने भी संबोधित किया इस अवसर पर मौलाना नौशाद ,मौलाना सलीम ,मौलाना हबीब ,मौलाना जहाॅगीर, सगीर प्रधान आदी उपस्थित थे, कार्यक्रम के आयोजक मौलाना कारी एखलार्कुरहमान आजाद थे। 

                                             

Uttar Pradesh, India