नफरत से नहीं, प्यार से ही चलाया जा सकता है देश: आज़म

नफरत से नहीं, प्यार से ही चलाया जा सकता है देश: आज़म

अल्पसंख्यकों को मुख्य धारा से दूर न रखा जाये, सपा परिवार ही बना सकता है सौहार्द का माहौल 

लखनऊ: प्रदेश के नगर विकास एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री तथा समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहम्मद आज़म खाँ ने नये राजनैतिक सूरज के उदय होने की शुभ शुरूआत का स्वागत किया है। समाजवादी परिवार ही देश में सौहार्द का माहौल बना सकता है क्योंकि भारत जैसे विशाल देश को नफरत से नहीं, प्यार से ही चलाया जा सकता है। देश में नफरत एवं अराजकता का माहौल बनाने बालों से मानवता को बचाने के लिये समाजवादी विचार ही एकमात्र रास्ता है।

आज जारी अपने एक बयान में मोहम्मद आज़म खाॅँ ने कहा है कि अल्पसंख्यक वर्ग विशेष रूप  से मुस्लिम और ईसाई समाज के लोग खु़द को बहुत उपेक्षित और अजनबी सा महसूस कर रहे हैं। मायूसी इस बात की भी है कि दूसरी बड़ी आबादी होने के बावजूद भी उनको राजनीति, शिक्षा, रोज़़गार और व्यवसाय के मामले में दूर रखा जाता है।

श्री खाँ ने कहा कि नया सवेरा ऐसा हो कि शहीद भगत सिंह को फाॅँसी दिलवाने वाले गवाहों को समर्थन ना मिले बल्कि कुछ नज़रे इनायत उस जज की ओर भी हो जिसने अंग्रेज़ बहादुर की मंशा पूरी करने से इंकार कर दिया और पद तक त्याग दिया और इस तरह एक ऐसा इतिहास लिख दिया जिसने अपनी दूसरी मिसाल आज तक पेश नहीं की। बापू और बापू के हत्यारों का फ़र्क़़़ महसूस किया जाये और अल्पसंख्यकों को मुख्य धारा से दूर न रखा जाये।

Lucknow, Uttar Pradesh, India