एचसीबीएल ने छात्राओं को दी बैंक परिचालन की जानकारी

एचसीबीएल ने छात्राओं को दी बैंक परिचालन की जानकारी

लखनऊ: नगरीय सहकारी बैंकों में तेजी से आगे बढ़ रहे एच सी बी एल को-आॅपरेटिव बैंक ने बालिका सप्ताह के दौरन लखनऊ, उन्नाव, बाराबंकी रायबरेली और सीतापुर जिला की स्कूली छात्राओं को बैंक के परिचालन खाता खोलने व नोट को पहचानने सम्बन्धी जानकारी देकर वित्तिय साक्षरता का अभियान चलाया। बैंक ने 24 जनवरी से शुरू राष्ट्रीय बालिका सप्ताह के दौरान स्कूलों में जाकर यह जानकारी दी। एच सी बी एल बैंक के अधिकारियों ने इस दौरान स्कूली छात्राओं को न केवल बच्चों के लिए विभिन्न बचत योजनाओं की जानकारी दी बल्कि उन्हें बैंक खाता खोलने एवं करेन्सी नोटों की पहचान के बारे में विस्तार से बताया।

एच सी बी एल को-आॅपरेटिव बैंक के सी ई ओ श्री पवन कपूर ने बताया कि उनके बैंक ने इस अभियान को तथास्तु का नाम दिया है, जिसके तहत स्कूली छात्राओं को वित्तीय साक्षरता प्रदान की जा रही है उन्होंने कहा कि वित्तीय समावेशन के केन्द्र सरकार की योजना को जन-जन तक ले जाने के लिए आधी आबादी की वित्तीय साक्षरता सबसे ज्यादा जरूरी है।

राष्ट्रीय बालिका सप्ताह के दौरान एच सी बी एल को-आॅपरेटिव बैंक के अधिकारियों की टीम ने खास तौर पर राजधानी के अभिनव गर्लस कालेज जानकीपुरम्, आलमबाग के सिन्धी गर्लस कालेज, नवयुग स्कूल, फ्यूचर प्रोगे्रसिव स्कूल, बाराबंकी के नेशनल गर्लस कालेज, सीतापुर के मदर प्राइड स्कूल और महाराजा बिजली पासी स्कूल में जाकर स्कूली छात्राओं को बैंकिंग सम्बन्धी जानकारी उपलब्ध करायी।

श्री पवन कपूर के मुताबिक एच सी बी एल को-आॅपरेटिव बैंक में बच्चे या उनके अभिभावक हर महीने 1321रू जमाकर पाॅच साल में लखपती बन सकते हैं। जबकि दस साल से कम उम्र के बच्चे अपने अभिभावकों के संरक्षण में 50 रू मासिक जमा से अपना खाता खुलवा सकते हैं। बैंक के चिल्ड्रेन सेविंग प्लान-2 में दस साल से अधिक आयु के बच्चे अपने नाम से खाता खुलवाकर खुद संचालित कर सकते हैं। जिसमें बैंक के द्वारा उनको एटीएम कार्ड की सुविधा भी दी जा रही है। अगर छात्र अपना खाता तीन साल तक चलाता है तो उसे एजुकेशन लोन पर आधा फीसदी (0.5 प्रतिशत) ब्याज की छूट मिलेगी। इसी तरह डबल मैजिक धमाका प्लान में आठ सालों में जमा धन का दुगना लाभ मिल सकता है। इसके लिए जमा की न्यूनतम् सीमा 5000 रू और अधिकतम् सीमा 50 रू लाख रूपये है।