इक्वाडोर में भूकंप से 80 लोगों की मौत

इक्वाडोर में भूकंप से 80 लोगों की मौत

इक्वाडोर: उत्तर पश्चिमी इक्वाडोर में आज आए 7.8 तीव्रता के भीषण भूकंप में कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई है। यह जानकारी देश के उपराष्ट्रपति जॉर्ज ग्लास ने दी है। ग्लास ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया, ‘पोर्तोवाइजो शहर में 30 लोग, मांता में 25 और ग्वैस प्रांत में 10 लोगों की मौत हो गई है।’ उन्होंने यह भी कहा कि देशभर में आपात स्थिति की घोषणा कर दी गई है।

यूएस जियोलॉजिकल सर्वे (यूएसजीएस) की रिपोर्ट के अनुसार, आज इक्वाडोर में 7.8 तीव्रता का भीषण भूकंप आया। इसके तेज झटके राजधानी क्विटो में महसूस किए गए और स्थानीय तटों के लिए सुनामी की चेतावनी भी जारी की गई।

प्रशांत सुनामी चेतावनी केंद्र ने कहा, ‘भूकंप के प्रारंभिक पैमानों के आधार पर भूकंप के केंद्र के 300 किलोमीटर के दायरे के अंदर पड़ने वाले तटों पर सुनामी की खतरनाक लहरें उठ सकती हैं।’

यूएसजीएस ने कहा कि यह भूकंप अंतरराष्ट्रीय समयानुसार रात 11 बजकर 58 मिनट पर क्विटो से 173 किलोमीटर पश्चिम-उत्तरपश्चिम में और मिज्न से महज 27 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में आया। भूकंप का केंद्र 10 किलोमीटर की गहराई में था। भूकंप के तेज झटकों के कारण मकान ढह गए और इमारतें हिल गईं।

यूएसजीएस ने कहा कि दरअसल एक ही इलाके में 11 मिनट के अंतर पर दो भूकंप आ गए। पहले वाले भूकंप की तीव्रता 4.8 थी और दूसरे की तीव्रता 7.8 थी। इस बीच एपी की एक खबर के अनुसार, शहर के निवासियों ने ढह चुके मकानों, शॉपिंग सेंटर की गिरती छत और सुपरमार्केट की तेजी से हिलती अलमारियों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा कीं। नियंत्रक टावर का भारी नुकसान होने के बाद मांता में हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया।

एक सम्मेलन में शिरकत करने के लिए वेटिकन गए राष्ट्रपति राफेल कोरिया ने इक्वाडोर के निवासियों से मजबूती दिखाने की अपील की और प्रशासन से स्थितियों पर निगाह रखने की बात कही। उपराष्ट्रपति ग्लास ने कहा, ‘यह बेहद अहम है कि इस आपात स्थिति में इक्वाडोर निवासी शांति बनाए रखें।’