देश के विकास के लिए महिलाओं का आगे बढ़ना ज़रूरी: अखिलेश

देश के विकास के लिए महिलाओं का आगे बढ़ना ज़रूरी: अखिलेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य सरकार महिलाओं का बहुत सम्मान करती है। इसीलिए प्रदेश सरकार द्वारा राज्य मंे महिलाओं के कल्याण एवं सुरक्षा के लिए कई कल्याणकारी योजनाएं लागू की गई हैं। उन्होंने कहा कि हमारे देश में महिलाओं को देवी का सम्मानित दर्जा दिया गया है, जिस हमें दृढ़ता से अमल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाएं हमारे देश की आबादी का आधा हिस्सा हैं, ऐसे में उनकी अनदेखी नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि जिस देश की महिलाएं पिछड़ जाती हैं, वह आगे नहीं बढ़ सकता। मुख्यमंत्री ने आज एक अखबार समूह द्वारा आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने मशहूर कालबेलिया नर्तकी श्रीमती गुलाबो सपेरा को 11 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की। इस कार्यक्रम को कन्या भ्रूण हत्या पर केन्द्रित करने के लिए समूह की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है। 

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश की समाजवादी सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा, सम्मान एवं उत्थान के लिए लगातार कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज के परिप्रेक्ष्य में महिलाएं हर क्षेत्र में आगे आ रही हैं और अच्छा काम कर रही हैं। राज्य सरकार महिलाओं के कल्याण के लिए कई योजनाएं चला रही है। बालिकाओं को कन्या विद्याधन उपलब्ध कराया जा रहा है, ताकि वे अपनी आगे की पढ़ाई जारी रख सकें। राज्य सरकार द्वारा विद्यार्थियों को निःशुल्क वितरित किए गए 17 लाख लैपटाॅपों में से बड़ी संख्या में लैपटाॅप छात्राओं को दिए गए हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लागू की गई समाजवादी पेंशन योजना के अन्तर्गत परिवार की महिला मुखिया के खाते में हर महीने सीधे 500 रुपये की सहायता मुहैया करायी जा रही है। इस वित्तीय वर्ष मंे इसका लाभ 55 लाख गरीब परिवारों को मिलेगा। गर्भवती महिलाओं को अस्पताल पहुंचाने और वापस लाने के लिए ‘102‘ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। यही नहीं राज्य सरकार द्वारा महिलाओं को यश भारती तथा रानी लक्ष्मीबाई वीरता सम्मान के अन्तर्गत सम्मानित भी किया जा रहा है। यश भारती से सम्मानित लोगों को 50 हजार रुपये की पेंशन की भी व्यवस्था की गई है। 

श्री यादव ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए लागू की गई 1090 विमेन पावर लाइन के माध्यम से महिला उत्पीड़न के लाखों मामलों का निस्तारण किया जा चुका है। राज्य सरकार द्वारा रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष भी संचालित किया जा रहा है, जिसके अन्तर्गत महिलाओं को आर्थिक मदद उपलब्ध कराने के साथ-साथ सम्मानित भी किया जाता है। 

कन्या भ्रूण हत्या की भत्र्सना करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इससे सख्ती से निपटेगी और इस सम्बन्ध में मौजूद नियम-कानूनों का कठोरता से अनुपालन सुनिश्चित कराएगी। उन्होंने इस सम्बन्ध में मानसिकता में बदलाव लाने की आवश्यकता पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि लड़कियां परिवार की शक्ति होती हैं। रानी लक्ष्मीबाई के योगदान को हम भूल नहीं सकते, वे नारी शक्ति का प्रतीक हैं। 

कार्यक्रम के दौरान आयोजित इण्टरएक्टिव सेशन में एक महिला प्रतिभागी द्वारा लखनऊ में सड़कों के किनारे महिलाओं के लिए वाॅशरूमों के अभाव के प्रति मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित कराने पर उन्होंने आश्वासन दिया कि इस समस्या का शीघ्र समाधान किया जाएगा। एक अन्य प्रतिभागी द्वारा कन्या भ्रूण हत्या पर पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में मुख्यमंत्री ने इस समस्या से सख्ती से निपटने का आश्वासन दिया। महिला आरक्षण के सम्बन्ध मंे पूछे गए एक अन्य प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा पंचायत चुनावों में बड़ी संख्या में महिलाओं को मौका दिया गया है। 

कार्यक्रम को कन्नौज की सांसद डिम्पल यादव ने कहा कि महिलाओं को हर प्रकार की सहायता उपलब्ध करायी जानी चाहिए। उन्होंने महिलाओं के प्रति सोच में बदलाव लाने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि इसके बगैर उनकी प्रगति सम्भव नहीं है। कार्यक्रम को सुप्रसिद्ध टीवी कलाकार मेघना मलिक तथा गुलाबो ने भी सम्बोधित किया।  कार्यक्रम के अन्त में मुख्यमंत्री ने प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरित किए। 

Lucknow, Uttar Pradesh, India