भाजपा ने फूका शशि थरूर का पुतला

भाजपा ने फूका शशि थरूर का पुतला

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी लखनऊ महानगर ने शहीद भगत सिंह के अपमान का पुरजोर विरोध करते हुए आक्रोश मार्च निकालकर कांग्रेस नेता शशि थरूर का पुतला फूंका। महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा के नेतृत्व में सैकड़ो कार्यकर्ता नगर कार्यलय कैसरबाग पर एकत्र हुए और कांग्रेस एवं वामपंथी दलो की मानसिकता के खिलाफ नारे लगाते हुए लालबाग चौराहे पर कांग्रेस नेता शशि थरूर के पुतले को आग के हवाले कर दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने भगत सिंह का अपमान नही सहेगा हिन्दुस्तान, राष्ट्रद्रोही होश में आओ , भारत माता की जय के गगन भेदी नारे भी लगाये।

कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा ने कहा कि कांग्रेस एवं वामपंथी दल लगातार शहीदो का अपमान कर रहे है जेएनयू की घटना इस का जीता जागता प्रमाण है कांग्रेस सांसद शशि थरूर द्वारा जेएनयू के छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की तुलना शहीद ए आजाद भगत सिंह से कर दी जो की शहीदो का अपमान है। कांग्रेस पार्टी राष्ट्रद्रोह के आरोपी कन्हैया कुमार को लगातार हीरो बनाने का कार्य कर रही है जब की कन्हैया कुमार ने देश के साथ गद्दारी करते हुए अफजल गुरू के पक्ष में नारे लगाये और हिन्दुस्तान की बर्बादी तक जंग जारी रखने का ऐलान किया। इसके विपरीत हिन्दुस्तान के राष्ट्रवादी लोगो ने सड़को पर उतर कर कन्हैया कुमार का

पुरजोर विरोध किया और अब कन्हैया कुमार जहां भी जा रहे है उनको विरोध का सामना करना पड़ रहा है। युवा मोर्चा अध्यक्ष टिंकू सोनकर ने कहा कि शिक्षा के मंदिर में राजनीति नही होनी चाहिए। जेएनयू प्रकरण में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के बीच राहुल गांधी द्वारा दिये गये बयान को लेकर सम्पूर्ण देश आक्रोशित हैं। विघटनकारी तत्वों को पनाह नही देनी चाहिए ऐसे तत्वों के खिलाफ कठोर से कठोर कार्यवाही हो विपक्षी दलों ने राष्ट्र विरोधी छात्रों का समर्थन करके वोट बैंक की तुष्ट राजनीति का परिचय दिया

है। जेएनयू में कश्मीर की आजादी और अफजल गुरू एवं पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगे जोकि अत्यंत दुःखदायी है। कांग्रेस हमेशा देश विरोधी ताकतों के साथ खड़ी रहती है कांगे्रस के नेता आतंकी हाफिज को साहब कहते हैं तो अफजल और ओसामा दोनों को जी कह कर सम्बोधित करते हैं। संसद हमले का मास्टर माइंड अफजल गुरू को फंासी देना बिल्कुल उचित कदम था परन्तु जेएनयू के राष्ट्र विरोधी छात्र इसकी फांसी पर ऐतराज जता रहे हैं और उसकी बर्सी भी मना रहे हैं। 

Lucknow, Uttar Pradesh, India