रोशे डायबिटीज केयर ने शुरु किया असली हीरो बनाम मधुमेह अभियान

रोशे डायबिटीज केयर ने शुरु किया असली हीरो बनाम मधुमेह अभियान

रोशे डायबिटीज केयर, भारत में  रक्त ग्लूकोज़ मॉनिटरिंग सिस्टम में एक अभियान चला रहा है  जो  मधुमेह के साथ स्वस्थ रहने पर जोर देता है ।  यह अभियान मधुमेह रोगियों  को दिखाता है  और  बताता है  कि कैसे इन्होने अपने मधुमेह पर नियंत्रण किया है। 

यह अभियान बताता है  कि कैसे ये लोग सफलतापूर्वक नियमित रूप से  स्वयं निगरानी के माध्यम से अपने मधुमेह का प्रबंधन कर रहे हैं।  वास्तविक रूप से  मधुमेह से ग्रस्त मरीज ही रियल हीरोज़ हैं  और  इस अभियान के  सार हैं . यह अभियान एक्यू चेक  के  नेतृत्व में  चल रहा है . एक्यू चेक, रोशे डायबिटीज केयर का सक्रिय रक्त ग्लूकोज़ मानिटरिंग ब्रांड है असली हीरो  बनाम मधुमेह अभियान उन लोगों  द्वारा प्रशंसा  पा रहा है  जो  नियमित रूप से एक्यूचेक के जरिए अपने रक्त में  शर्करा की मात्रा पर सक्रिय नजर रखने और  एक सक्रिय जीवन जी रहे हैं . यह एक राष्ट्रीय अभियान है जो प्रिंट, डिजिटल और  रेडियो माध्यमों में प्रसारित किया जा रहा है ।  यह अभियान वर्तमान में भारत के प्रमुख दैनिक अखबारों  और  राज्यों के ऑनलाइन प्रकाशन में  आ रहा है असली नायकोण  के वास्तविक अनुभवों के माध्यम से, एक्यूचेक देश में मधुमेह पीडित लोगों  को प्रेरित करना चाहता है  ताकि वे अपने मधुमेह को  नियंत्रण में  रखते  हुए अपने  जीवन को  नियंत्रित कर सके. एक्य चेक के ब्रांड  अम्बेसडर, वसीम अकरम, एक मधुमेह रोगी, भी सक्रिय रूप से खुद से ग्लूकोज़  की निगरानी के महत्व का सन्देश  दे रहे  हैं । भारत मे रोश  डायबिटीक केयर के बिजने  हेड  सिद्धार्थ राय कहते हैं  कि भारत में मधुमेह के अनुपात को  देखते हुए  यह महत्वपूर्ण है  कि हम देश में  मधुमेह के प्रबंधन के अभिन्न अंग के रूप में इसकी समझ और  स्वयं निगरानी के  बारे में जागरूकता फैलाए.

उन्होंने  कहा कि स्वयँ निगरानी मधुमेह रोगी  को  और  हेल्थ केयर प्रोफेशनल्स  को  उपचारात्मक उपायों के अलग-अलग हिस्सा को  समायोजित करने में  मदद कर सकते हैं . इस प्रकार संभावित उपचार की लागत में  कमी आती है . हमारा मानना है  कि रक्त ग्लूकोज़  की स्वयं निगरानी, रोगी को  अपने  स्वास्थ्य और  जीवन शैली के बारे में समय पर निर्णय लेने  में  सक्षम बनाता हैं . यही बात उसे असली हीरो  बना रही है .

स्वयं निगरानी के  साथ, कोई  भी लगातार और  नियमित अंतराल पर जांच  कर सकता है. यदि रक्त शर्करा नियंत्रण में है  तो  डॉक्टर उनकी जीवन शैली को संशोधित कर सकता है , शारीरिक गतिविधियाँ शुरु कर सकता है , रोगी  के  आहार और  दवा को  नियंत्रित कर सकता है . दैनिक रूप से रक्त ग्लूकोज़  प्रबंधन करके  रोगी खुद को आँख , किडनी, पैर और  तंत्रिका क्षति से  बचा सकता है, क्षति को कम कर सकता है . कम जटिलताओं  का अर्थ है , एक असली हीरो  के लिए अपने परिवार के साथ रोज़मर्रा  की ज़िन्दगी  का आनंद  लेने  का अधिक समय.