ट्राई ने किया नेट न्यूट्रैलिटी का समर्थन

ट्राई ने किया नेट न्यूट्रैलिटी का समर्थन

उल्लंघन करने वाली कंपनियों पर लगेगा हर दिन का 50,000 रुपये जुर्माना

नई दिल्ली: फेसबुक के 'फ्री इंटरनेट' अभियान को तगड़ा झटका देते हुए टेलीकॉम रेगुलेटर ट्राई ने भारत में इंटरनेट डाटा के लिए अलग-अलग चार्ज को नामंजूर कर दिया है। इसका मतबल यह हुआ कि इंटरनेट पर सभी तरह की सामग्री एक समान मूल्य पर उपलब्ध होगी। ट्राई के नए दिशा-निर्देशों के मुताबिक, इस नियम का उल्लंघन करने वाली कंपनियों पर 50,000 रुपये प्रति दिन के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा।

टेलिकॉम नियामक ने कहा, 'यह (प्रतिबंध) ऐसे किसी भी कार्यक्रम या परियोजना पर रोक लगा देगा, जो कि (डेटा सर्विस के लिए) अलग-अलग मूल्य निर्धारण के ढांचे पर काम करता है।' हालांकि इसके साथ ही उसने कहा कि बाढ़ या भूकंप जैसी आपदा की घड़ी में डेटा की कीमतें घटाई जा सकती हैं।

टाई ने साथ ही बताया कि इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों को सस्ती दरों पर कुछ सामग्रियां मुहैया करने वाले मौजूदा प्लान तत्काल बंद नहीं होंगे और ग्राहक अपने प्लान की अवधि खत्म होने तक उनका इस्तेमाल कर सकेंगे। ट्राई के मुताबिक, ग्राहकों की चिंताओं को देखते हुए उनकी 'सुविधा' के लिए यह छूट दी गई है।

ट्राई का यह फैसला फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के फ्री बेसिक्स स्कीम के लिए झटका है, जिसमें कहा गया था कि इस स्कीम के जरिये ग्रामीण भारत के लाखों लोगों को मुफ्त में इंटरनेट सुविधा मुहैया कराई जाएगी।

फेसबुक की योजना भारत में रिलायंस टेलिकॉम के साथ साझीदार कर मोबाइल फोन पर सस्ती वेब सेवाएं मुहैया कराने थी, जिसमें फेसबुक के सोशल नेटवर्क और मैसेजिंग सेवाओं के उपयोग के लिए कोई चार्ज नहीं लिया जाता।