हज के दौरान सऊदी सरकार की सेवाएं सराहनीय: मौलाना ज़फ़रूद्दीन

हज के दौरान सऊदी सरकार की सेवाएं सराहनीय: मौलाना ज़फ़रूद्दीन

दारूल उलूम निज़ामिया फरंगी महल में ‘‘हज और सऊदी सरकार’’ के विषय पर विशेष बैठक

लखनऊ: हज और हाजियों के सम्बन्ध में सऊदी सरकार की सेवाएं सराहनीय हैं। सऊदी अरब के बादशाह शैख सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ और उनकी सरकार के अधिकारी जिस हिम्मत, अक़लमन्दी और इस्लामी भाई-चारे से दुनिया भर से आए हुए हाजियों की सेवा करते हैं वो पूरी दुनिया की सरकारों के लिये एक मिसाल है। चाहे हरम शरीफ का विस्तार हो चाहे हाजियों की सुरक्षा हो चाहे हज के दिनों में मक्का मुकर्रमा और मदीना मुनव्वरा एवं अन्य स्थानों में सुविधा एवं सुरक्षा की बात हो हर जगह बेमिसाल हैं। और बहुत ही खुशी से इन कामों को अंजाम दे रहे हैं।

ये बातें मौलाना ज़फ़रूद्दीन नदवी इमाम मस्जिद अत्तहलिया तबूक सऊदी अरब ने कहीं, वो आज दारूल उलूम निज़ामिया फरंगी महल में एक विशेष बैठक जिसका विषय ‘‘हज और सऊदी हुकूमत’’ को सम्बोधित कर रहे थे। बैठक की अध्यक्षता नाजि़म दारूल उलूम निज़ामिया फरंगी महल मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली इमाम ईदगाह लखनऊ ने की।

मौलाना ज़फ़र ने कहा कि पिछले दिनों हरम शरीफ में जो हादसा हुआ वो एक कुदरती हादसा था और उसकी पूरी तफसील सामने आ गई है। इस दर्दनाक घटना पर बादशाह सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ के अद्ल व इंसाफ और भाई-चारा को पूरी दुनिया ने अपनी आंखों से देखा और उसकी सराहना की।

उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि शैतान को पत्थर मारने के दौरान जो दर्दनाक हादसा पेश आया वो सरकार की लापरवाही से नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि हज एक बड़ी इबादत है। एैसे पवित्र स्थान पर सिर्फ इबादत करना चाहिये। इन जगहों से सियासत को बिलकुल अलग रखना चाहिये।

मौलाना खालिद रशीद ने सऊदी सरकार की व्यवस्थाओं की भरपूर सराहना की, उन्होंने कहा कि पिछले दिनों हमने इन व्यवस्थाओं को खुद अपनी आंखों से देखा है। बादशाह सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ हाजियों के काम में व्यक्तिगत तौर पर भरपूर दिलचस्पी लेते हैं और सरकार हाजियों की सुरक्षा और सहूलत का हर सम्भव प्रयास करती है।

मौलाना फरंगी महली ने कहा कि हज जैसी पवित्र इबादत सिर्फ अल्लाह को खुश करने के लिये की जाती है। ऐसी पवित्र इबादत से दुनियावी कामों को दूर रखा जाये। उन्होंने सऊदी सरकार से भरपूर मांग की कि हज के अवसर पर फसाद फैलाने वालों पर कठोर कार्यवाही की जाये। उन्होंने इन घटनाओं में शहीद होने वालों के लिये दुआ-ए-मग़फि़रत की।

Lucknow, Uttar Pradesh, India