धर्मशाला में कल होगा धोनी का इम्तेहान

धर्मशाला में कल होगा धोनी का इम्तेहान

धर्मशाला: सीमित ओवरों के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की वापसी के साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम शुक्रवार को यहां दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टी20 मैच में जीत के साथ आगाज करने के इरादे से उतरेगी। शुरूआती मैच यहां कराने के फैसले से दक्षिण अफ्रीकी टीम हैरान है क्योंकि एचपीसीए के खूबसूरत स्टेडियम का ठंडा मौसम उसके तेज गेंदबाजों को रास आयेगा। दक्षिण अफ्रीका को हालांकि दिल्ली में भारत ए के खिलाफ एकमात्र टी20 अभ्यास मैच में अप्रत्याशित पराजय झेलनी पड़ी थी। भारत ए टीम में कोई नियमित राष्ट्रीय खिलाड़ी नहीं है लेकिन उसने 190 रन का लक्ष्य हासिल कर लिया। यहां के हालात हालांकि दीगर है और दक्षिण अफ्रीका के अनुकूल भी। टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह चुके धोनी तीन महीने बाद टीम में लौटे हैं। यह श्रृंखला अगले साल भारत में होने वाले टी20 विश्व कप की तैयारी के लिये अहम है। टीम में श्रीनाथ अराविंद जैसे नये खिलाड़ी हैं और धोनी की पारखी नजरें उन्हें आजमाना चाहेंगी। इस श्रृंखला के तीन टी20 मैचों के अलावा भारत को श्रीलंका के खिलाफ चार मैच और एशिया कप भी खेलना है। यह श्रृंखला दोनों टीमों के बल्लेबाजों का मुकाबला कही जा सकती है। दक्षिण अफ्रीका के पास कप्तान फाफ डु प्लेसिस और एबी डिविलियर्स जैसे बल्लेबाज हैं जो दुनिया के किसी भी आक्रमण की बखिया उधेड़ सकते हैं। उनके अलावा हाशिम अमला, डेविड मिलर और जेपी डुमिनी बल्लेबाजी को मजबूत बनाते हैं। दक्षिण अफ्रीका के अधिकांश खिलाड़ी आईपीएल खेलते हैं लिहाजा हालात से बखूबी वाकिफ हैं। कप्तान डु प्लेसिस तो धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स के लिये खेल चुके हैं। उनके कोचिंग स्टाफ में माइकल हस्सी भी हैं जिन्होंने भारत के खिलाफ काफी खेला है और आईपीएल में धोनी के साथ खेलते आये हैं। उनकी राय काफी मददगार साबित होगी। भारत की उम्मीदों का दारोमदार भी बल्लेबाजों पर होगा। शिखर धवन हाथ की चोट से ऊभरकर बांग्लादेश ए के खिलाफ शतक के साथ फार्म में लौट चुके हैं। उनके साथ पारी की शुरूआत रोहित शर्मा या अजिंक्य रहाणे करेंगे । मध्यक्रम में टेस्ट कप्तान विराट कोहली, सुरेश रैना और खुद धोनी हैं। यह श्रृंखला सीनियर स्पिनर हरभजन सिंह के लिये काफी अहम है। आर अश्विन जबर्दस्त फार्म में हैं और श्रीलंका के खिलाफ मैन ऑफ द सीरिज थे लिहाजा हरभजन के लिये टीम में जगह बनाना काफी मुश्किल होगा। एचपीसीए स्टेडियम की पिच स्विंग गेंदबाजों की मददगार होगी लेकिन धोनी दो स्पिनरों को उतार सकते हैं । अश्विन और हरभजन के अलावा अमित मिश्रा और अक्षर पटेल के भी विकल्प हैं । भारत की सबसे बड़ी चिंता तेज गेंदबाजों का लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाना है । भुवनेश्वर कुमार पिछले छह महीने से नहीं खेले हैं और यह श्रृंखला उनके आत्मविश्वास की परीक्षा होगी । दूसरे तेज गेंदबाज की जगह मोहित शर्मा या अराविंद लेंगे। स्टुअर्ट बिन्नी भी अंतिम एकादश में जगह बना सकते हैं क्योंकि हालात उनकी गेंदबाजी शैली के अनुकूल हैं। दक्षिण अफ्रीका के पास काइल एबोट और क्रिस मौरिस जैसे टी20 विशेषज्ञ गेंदबाज हैं। लेग स्पिनर इमरान ताहिर और तेज गेंदबाज एल्बी मोर्कल भी भारतीय बल्लेबाजों की परेशानी का सबब बन सकते हैं। डु प्लेसिस कह चुके हैं कि इस श्रृंखला से वे टी20 विश्व कप की तैयारी शुरू करेंगे। उन्होंने कहा ,‘मैं इस दौरे को लेकर उत्साहित हूं क्योंकि भारत में ही टी20 विश्व कप होना है। टीम में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें हालात को समझने का यह सुनहरा मौका मिला है।’ टीमें भारत : महेंद्र सिंह धोनी : कप्तान :, श्रीनाथ अराविंद, आर अश्विन, स्टुअर्ट बिन्नी, शिखर धवन, हरभजन सिंह, विराट कोहली, भुवनेश्वर कुमार, अमित मिश्रा, अक्षर पटेल, अजिंक्य रहाणे, सुरेश रैना, अंबाती रायुडू, मोहित शर्मा, रोहित शर्मा । दक्षिण अफ्रीका : फाफ डु प्लेसिस ( कप्तान), काइल एबोट, हाशिम अमला, फरहान बेहार्डियेन, डिकाक, मर्चेंट डिलांगे, एबी डिविलियर्स, जेपी डुमिनी, इमरान ताहिर, एडी लेइ, डेविड मिलर, एल्बी मोर्कल, क्रिस मौरिस, कागिसो रबाडा, खाया जोंडो ।