एनआरएचएम घोटाले से मेरा कोई संबंध नहीं

एनआरएचएम घोटाले से मेरा कोई संबंध नहीं

मायावती ने भाजपा को दी ऐसे कामों से बाज आने की चेतावनी 

नई दिल्ली : बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने मंगलवार को करोड़ों रुपये के एनआरएचएम घोटाला पर उनसे पूछताछ करने के सीबीआई के निर्णय को लेकर भाजपा नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि इस मामले से उनका कोई संबंध नहीं था और केन्द्र सरकार बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक फायदे के लिए सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है।

मायावती ने उनके खिलाफ सीबीआई की जांच के समय को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि यह सब उनकी पार्टी को हतोत्साहित करने और जनता से किये गये अपने वादे को पूरा करने में सरकार की ‘विफलता’ से ध्यान हटाने का प्रयास है। मायावती ने यहां संवाददाताओं से कहा कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) घोटाले से मेरा कोई संबंध नहीं है। भाजपा, सीबीआई का इस्तेमाल करने का प्रयास कर रही है और उसे इस तरह की चाल से बाज आना चाहिए क्योंकि इस तरह के प्रयास उन्हें पहले भी भारी पड़ चुके हैं। लेकिन साथ ही उन्होंने कहा कि एजेंसी का निर्णय कुछ ऐसे जातिवादी अधिकारियों की करतूत हो सकती है जो दलितों और पिछड़ों को नापसंद करते हैं।

उन्होंने कहा कि यह संभव है कि भाजपा आलाकमान इन अधिकारियों के प्रयास से अवगत न न हो, इसकी जांच होनी चाहिए। बसपा प्रमुख ने दावा किया कि घोटाले के प्रकाश में आने के चार साल बाद उनसे पूछताछ करने के निर्णय से सिर्फ राजनीतिक बदले की भावना की बू आती है। मायावती ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के दौरान मेरे खिलाफ ताज कारिडोर मामले में मामले दर्ज किये गये और साथ ही साथ आय से अधिक संपत्ति का एक मामला दर्ज किया गया लेकिन मुझे उच्च न्यायालय और साथ ही साथ उच्चतम न्यायालय से क्लीन चिट दी गई। उन्होंने कहा कि इससे पहले कि सीबीआई का एक अधिकारी मुझसे मिलता, यह खबर कि एनआरएचएम घोटाले में मुझसे पूछताछ हो सकती है, मीडिया को लीक कर दी गई। इसका उद्देश्य बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मुझे और मेरी पार्टी के कार्यकर्ताओं को हतोत्साहित करना है।

मायावती ने कहा कि जनता को गुमराह करने की इस तरह की चाल से भाजपा को किसी भी तरह से फायदा नहीं होगा। उन्होंने कहा कि मैं दबाव के आगे नहीं झुकूंगी। इस मुद्दे पर अपने रुख को साफ करते हुए मायावती ने कहा कि निर्णय उनकी कैबिनेट द्वारा किया गया और उसके बाद प्रत्येक जिलों में दो मुख्य चिकित्या अधिकारियों की नियुक्ति के बारे में निर्णय संबंधित मंत्री बाबूलाल कुशवाहा द्वारा किया गया। मायावती ने कहा कि मैं भाजपा को चेतावनी देती हूं कि वह ऐसे कामों से बाज आए। 

Lucknow, Uttar Pradesh, India