बिहार के लिए मैं बार-बार याचक बनने को तैयार: नितीश

बिहार के लिए मैं बार-बार याचक बनने को तैयार: नितीश

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पीएम मोदी के याचव वाले बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि मुझे याचक बनने में कोई एतराज नहीं है। लेकिन मुझे समझ नहीं आता प्रधानमंत्री जी तथ्य कहां से लाते है? बिहार ने हर फ्रंट पर विकास किया है। लेकिन पीएम को बिहार में विकास दिखाई नहीं देता है।

नीतीश ने कहा कि पीएम कहते हैं कि राज्य को मिला पैसा राज्य सरकार ने खर्च नहीं किया तो मैं उन्हें बता दूं कि वो तो केंद्र सरकार को खर्च करना था। राज्य सरकार को नहीं। राज्य सरकार अपना काम अच्छी तरह कर रही है। विशेष राज्य के दर्जे पर नीतीश कुमार ने पीएम पर पलटवार करते हुए कहा कि हमने ज्ञापन दिया था कि बिहार को स्पेशल स्टेटस का दर्जा मिलना चाहिए। हमने योजना आयोग के सामने भी कहा था कि विशेष राज्य के दर्जे की संवैधानिक मांग है और बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलना भी चाहिए।

नीतीश ने पीएम पर तीखे अंदाज में हमला बोलते हुए कहा कि पीएम जिस अंदाज से राज्य को ट्रीट कर रहे है और जिस तरह से बोल रहे थे 50 हज़ार करोड़, 60 हजार करोड़, क्या पीएम बिहार की बोली लगा रहे थे? और पीएम ने बिहार की बोली सवा लाख करोड़ लगा दी।

बिहार को दिए गए पैकेज पर नीतीश कुमार ने कहा कि मोदी ने बिहार में दर्जनों काम करने के लिए करोड़ों की घोषणा कर दी। लेकिन उन्होंने यह साफ नहीं किया कि कितने दिन में करेंगे, 1 साल लगेगा, 2 या 3 साल या पता नहीं। बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने तो बिहार के लिए 41 हजार करोड़ की मांग की थी और मिला कितना? जो पीएम ने बिहार को दिया है वो तो ऊंट के मुह में जीरा है। बोधगया का आईआईएम तो मिल चुका है लेकिन मोदी जी कितनी बार एक ही मुर्गी को हलाल करोगे।