कानून-व्यवस्था, किसान समस्याओं को लेकर सड़क पर उतरी रालोद

कानून-व्यवस्था, किसान समस्याओं को लेकर सड़क पर उतरी रालोद

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने प्रदेश  अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान के नेतृत्व में प्रदेश  में व्याप्त भ्रष्टाचार, भर्ती घोटाला, कानून व्यवस्था, बकाया गन्ना मूल्य का मय ब्याज का भुगतान, फसल बर्बादी का मुआवजा सहित चिकित्सा मित्रों की समस्याओं को लेकर जी0पी0ओ0 स्थित गांधी प्रतिमा पर धरना देकर राज्यपाल महोदय को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से सौंपा। 

धरने को सम्बोधित करते हुये मुन्ना सिंह चौहान ने कहा कि वर्तमान समय में उ0प्र0 के जो हालात है वह चिंताजनक हैं। हर वर्ग की जनता की आंखों में घोर निराशा  दिखाई दे रही है। एक तरफ नौजवान नौकरी के लिए दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर है वहीं दूसरी तरफ सरकारी नौकरियों की भर्ती में प्रदेश  सरकार ने भ्रष्टाचार और घोटालों को जबरदस्त पनाह दे रखी है। प्रदेश  की नौकरियों में भर्ती योग्यता के आधार पर न होकर भाई भतीजावाद व क्षेत्रवाद तथा जाति विशेष  के आधार पर हो रही है। भ्रष्टाचार की जडे़ इतनी गहरी हो गयी हैं कि भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए प्रदेष सरकार नंगा नाच कर रही है। उन्होंने आगे कहा कि खराब मौसम तथा सरकारी नीतियों के कारण किसान की हाल लगातार खस्ताहाल होती जा रही है। किसानों को अपना भविष्य अंधकारमय दिखाई दे रहा है। कुछ किसानों ने कोई रास्ता न देखकर आत्महत्या का रास्ता अपना लिया। प्रदेश  सरकार न गन्ना मूल्य का बकाया का भुगतान कराने हेतु कोई सार्थक पहल कर रही है और न ही किसानों की क्षतिग्रस्त फसल के क्षतिपूर्ति हेतु पारदर्शिता से मुआवजा वितरण का कार्य कर रही है।

धरने को राष्ट्रीय महासचिव डाॅ0 मसूद अहमद ने सम्बोधित करते हुये कहा कि प्रदेश सरकार की नीयत में खोट हैं इसलिए जनहित की प्रत्येक योजना मंे भ्रष्टाचार उत्पन्न करने का काम करके अपने चहेतों की जेबे भरने काम कर रही है। सरकार ने अब तक के कार्यकाल में नौजवानों, किसानों, अकलियतों सहित समाज के हर तबके के लोगों को सिर्फ ठगने का काम किया है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य ओंकार सिंह ने कहा कि वर्तमान समय में प्रदेश  में महिलाएं असुरक्षित हैं प्रदेश  में  कानून व्यवस्था की सरेआम धज्जियां उड़ायी जा रही है परन्तु वर्तमान उ0प्र0 सरकार अपराध पर नियंत्रण रखने के बजाय उन्हें संरक्षण देने का काम कर रही है।

Lucknow, Uttar Pradesh, India