मन की बात करने वाले पीएम देश की भी बात सुनें: राहुल

मन की बात करने वाले पीएम देश की भी बात सुनें: राहुल

25 सांसदों के निलंबन के विरोध में कांग्रेस का लोकसभा के बाहर धरना

नई दिल्ली: लोकसभा से 25 सांसदों के निलंबन के खिलाफ आज कांग्रेस ने आक्रामक तेवर अपना लिए। पार्टी अध्यक्ष सोनिया और उपाध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में कांग्रेस सांसद गांधी प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठे। इसमें पूर्व पीएम मनमोहन सिंह सहित पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेता मौजूद थे। इस दौरान सोनिया और राहुल गांधी ने सरकार पर जबरदस्त हमला बोला।

राहुल ने ताबड़तोड़ हमले बोलते हुए कहा कि हमारे 25 सांसद एक सिंबल हैं। जो हमारे साथ किया जा रहा है वो पूरे देश के साथ किया जा रहा है। ये इंटरनेट, फिल्म संस्थान पर भी हो रहा है। चाहे हमें संसद से उठाकर बाहर फेंक दिया जाए, पर हम दबाव कम नहीं करेंगे। हम पूरे देश में इनको घेरेंगे। व्यापमं घोटाले में हजारों छात्रों का भविष्य बर्बाद हुआ है। सुषमा स्वराज जी ने कानून तोड़ा है। राजस्थान की सीएम ललित मोदी के साथ वित्तीय लेनदेन में फंसी हैं। इस्तीफा हम नहीं देश की जनता मांग रही है। मोदी जी तो हमेशा मन की बात करते रहते हैं, कभी वह कभी देश की बात भी सुन लें।

वहीं सोनिया गांधी ने कहा कि संसद को चलाना सरकार की ड्यूटी बनती है। लोकतंत्र की हत्या हो रही है। वहीं पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि पिछले डेढ़ महीने से जो मुद्दे उठाए जा रहे हैं, सरकार की जिम्मेदारी है कि उनसे निपटा जाए। हम इस्तीफे की मांग करके गलत नहीं कर रहे हैं। जबकि अहमद पटेल ने कहा कि कांग्रेस के साथ जिस तरह से किया गया है, वो गलत है। गुजरात मॉडल पर काम हो रहा है। पहले गुजरात में कर रहे थे अब यहां कर रहे हैं। ये अलोकतांत्रिक है। कमलनाथ ने कहा कि इस तरह का एक्शन कभी नहीं लिया गया है। संसदीय कार्यप्रणाली को ठेस पहुंची है। इस कदम से लोकतंत्र को ठेस पहुंची है।

समाजवादी पार्टी के सांसदों ने भी इसमें हिस्सा लिया। सांसदों के निलंबन के खिलाफ अगले पांच दिनों तक नौ विपक्षी पार्टियां लोकसभा की कार्यवाही के बहिष्कार कर रही हैं। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने सोमवार को ही साफ कर दिया था कि तृणमूल कांग्रेस, एनसीपी, जेडीयू, आरजेडी, मुस्लिम लीग, आम आदमी पार्टी और लेफ्ट पार्टियां लोकसभा की कार्यवाही में शामिल नहीं होंगी। वहीं लोकसभा अध्यक्ष की कार्रवाई पर नाराजगी दिखाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने NDTV से कहा कि यह लोकतंत्र के लिए काला दिन है।

दरअसल, कांग्रेस ललितगेट और व्यापमं के मुद्दे पर मंत्रियों के इस्तीफ़े की मांग पर अड़ी है। कांग्रेस के सांसद सदन में काली पट्टी बांधकर और हाथ में तख़्तियां लेकर आ रहे हैं। लगातार नारेबाज़ी कर रहे हैं, जिससे सदन में कार्यवाही नहीं हो पा रही है।