31 जुलाई तक पूरी हो सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की प्रक्रिया: महबूब अली

31 जुलाई तक पूरी हो सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की प्रक्रिया: महबूब अली

लखनऊ: माध्यमिक शिक्षा मंत्री महबूब अली की अध्यक्षता में माध्यमिक शिक्षा विभाग के मण्डलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक तथा जिला विद्यालय निरीक्षकों की विभागीय मासिक समीक्षा बैठक  में शिक्षा गुणवत्ता संवर्धन,  निरीक्षण तथा उनमें वृक्षारोपण कार्यक्रम को सर्वोच्च प्राथमिकता पर बल देते हुए मण्डलीय/ जनपदीय अधिकारियों को इसमें तीव्रता बरतने के निर्देश दिये गये ।  उन्होंने राजकीय विद्यालयों में सहायक अध्यापकों की नियुक्ति की प्रक्रिया प्रत्येक दशा में 31 जुलाई 2015 तक पूर्ण कराने हेतु निर्देशित किया । इसके अतिरिक्त माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने अपने सम्बोधन में विद्यालयों की बेहतरी एवं उनमें एक नये तरह का पठन-पाठन का माहौल विकसित करने हेतु विद्यालय वातावरण को स्वच्छ बनाने, विद्यालय में पठन-पाठन का माहौल बनाये जाने तथा सरकार की जनहित योजनाआंे को सूचना पट पर अंकित किये जाने के निर्देश दिए गये।  

माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने विद्यालय में प्रार्थना के समय महापुरूषों के जीवनी के बारे में छात्रों को अवगत कराये जाने, जनपदीय अधिकारियों द्वारा सप्ताह में कम से कम तीन विद्यालयों का अवश्य निरीक्षण करते हुए छात्रों की उपस्थिति, छात्र डायरी के उपयोग तथा वार्षिक शैक्षिक पाठ्यक्रम के क्रियान्वयन के साथ-साथ प्रयोगात्मक कार्य भी पाठ्यक्रम के अनुरूप बनाये जाने के निर्देश दिए गये। उन्होने विद्यालयों में चल रहे समस्त विकास कार्यो के अनुश्रवण हेतु वर्ष भर में तीन बैठक आहूत करने के निर्देश दिए। 

बैठक में राज्य मंत्री (माध्यमिक शिक्षा) विजय बहादुर पाल ने शिक्षा को गुणवत्तापरक बनाये जाने पर बल देते हुए कहा कि शिक्षकों को पूरे लगन एवं निष्ठा के साथ शिक्षा प्रदान करने जैसे पुनीत कार्य में जुटने का आवाह्न किया। 

बैठक में यू0पी0डेस्को द्वारा विकसित किए गये साफ्टवेयर के प्रदर्शन के संबंध में प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा जितेन्द्र कुमार ने कहा इस साफ्टवेयर को विकसित करने का उद्देश्य यह है कि समस्त राजकीय विद्यालय,  निजी विद्यालयों की भांति समानान्तर रूप से कार्य करें । उन्होने कहा कि विभाग द्वारा यू0पी0डेस्को के माध्यम से विकसित कराये जा रहे साफ्टवेयर में विद्यालय संबंधी नित्य कार्यो की सूचनाएं प्रतिदिन अपलोड हो सकेंगी। प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा श्री जितेन्द्र कुमार ने बताया कि निजी विद्यालयों में बच्चों की पढ़ाई के साथ मां-बाप का भी सरोकार बना रहता है।  इसी प्रकार से शासकीय विद्यालयों हेतु विकसित कराये जा रहे साफ्टवेयर में मां-बाप तथा बच्चे के फोटोग्राफ के साथ-साथ वार्षिक पाठ्यक्रम पी0डी0एफ0 फार्मेट में अपलोड कराये जाने हेतु निर्देशित किया गया। उन्होने सफाई की दृष्टि से प्रत्येक विद्यालय में श्रमदान के एक पीरियड रखे जाने की आवश्यकता पर बल दिया तथा संबन्धित साफ्टवेयर के माध्यम से मण्डलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक तथा जिला विद्यालय निरीक्षकों द्वारा निर्देशानुसार सम्पन्न किए जा रहे कार्यो की गे्रडिंग भी की जायेगी।

 
Lucknow, Uttar Pradesh, India