आईपीएल में बढ़ी ई-कॉमर्स कंपनियों की रूचि

आईपीएल में बढ़ी ई-कॉमर्स कंपनियों की रूचि

नई दिल्ली। हीरो मोटोकॉर्प और जेएसडब्ल्यू जैसी दिग्गज कॉर्पोरेट कंपनियां भले ही विवादों के चलते आईपीएल से हाथ खींच रही हो और टीम खरीदने पर फिर से विचार कर रही हैं, लेकिन ई-कॉमर्स कंपनियां इसमें हिस्सा लेने को आतुर नजर आ रही है। ई-कॉमर्स कंपनियां जैसे अमेजन, फ्लिपकार्ट, स्नेपडील और पेटीएम जैसी कपनियां इस लीग में टीम खरीदने पर विचार कर रही है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस आरएम लोढ़ा पैनल ने पिछले दिनों चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स को दो साल के लिए सस्पेंड कर दिया था। इसके चलते आईपीएल में नई टीमों के लिए जगह बन गई है। इसके चलते कई बड़े व्यापारिक ग्रुप जैसे सज्जन जिंदल का जेएसडब्ल्यू ग्रुप, हीरो मोटोकॉर्प शामिल है। हालांकि अब जिंदल ग्रुप का कहना है कि वे थोड़ा इंतजार करेंगे जबकि हीरो का कहना है कि हमारा ऐसा कोई विचार नहीं है।

इधर, ई-कॉमर्स कंपनियों के पास वर्तमान में निवेशकों का जोरदार समर्थन है और उनके पास काफी पैसा है। इस पैसे को वे आईपीएल में इंवेस्ट कर जल्दी से जल्दी अपने आप को ब्रांड के रूप में स्थापित करना चाहते हैं। पेटीएम के वरिष्ठ वाइस प्रेसिडेंट शंकर नाथ का कहना है कि, इस समय टीम चुनना शानदार मौका है और हम करीबी से इस पर नजर बनाए हुए हैं। आईपीएल से अनजान खिलाडियों को मौका मिलता है। पिछला आईपीएल हमारे लिए अच्छा साबित हुआ। अगर अवसर मिलेगा तो हम नीलामी में शामिल होंगे। पेटीएम में जापान के सॉफ्टबैंक ने निवेश किया है।

एक अन्य कंपनी का मानना है कि पैसों को लेकर कोई चिंता नहीं है। ऑनलाइन मार्केट में काफी प्रतिस्पर्धा है और आईपीएल में टीम होने से एक बड़ा बदलाव हो सकता है। अगर कोई नई टीम सस्ते में मिलती है हम ऎसे मौके की तलाश में है।