बीएचयू ट्रॉमा सेंटर के उद्घाटन पर सियासी ड्रामा

बीएचयू ट्रॉमा सेंटर के उद्घाटन पर सियासी ड्रामा

प्रधानमंत्री के न पहुँचने पर कांग्रेस विधायक अजय राय ने काट दिया फीता!

वाराणसी। लगातार बारिश व मंच सजा रहे एक मजदूर की मौत के कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) में बने ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन तो नहीं कर पाए, लेकिन उद्घाटन को लेकर बनारस में दिनभर सियासी ड्रामेबाजी चरम पर दिखाई दी। मोदी का दौरा रद्द होने की घोषणा के बाद कांग्रेस विधायक अजय राय के नेतृत्व में स्वामी अविमुक्ते श्वरानंद सहित सैकड़ों संत ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन करने बीएचयू पहुंच गए।

राय और स्वामी को पुलिस ने बीएचयू के गेट पर ही रोक दिया। इसके बाद दोनों ने मुख्यद्वार पर ही महामना मदनमोहन मालवीय की प्रतिमा के आगे नारियल फोड़कर और फीता काटकर ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन करने का दावा किया। इस दौरान पुलिस से उनकी जमकर धक्का-मुक्की हुई।

अविमुक्ते श्वरानंद ने कहा कि बीजेपी बेवजह ट्रॉमा के उद्घाटन के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च कर रही है। प्रधानमंत्री मोदी अपना गुणगान कराने के लिए बीएचयू के ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन कराना चाहते हैं, जिसके लिए बीजेपी चार बार से कार्यक्रम करने का प्रयास कर रही है, लेकिन मानसूनी बारिश उनके मनसूबे पर पानी फेर देती है। मोदी से उद्घाटन कराने के लिए करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा दिया गया है।

उन्होंने बीएचयू प्रशासन से मांग की है कि वह वादा करे कि ट्रॉमा का उद्घाटन अब नहीं कराया जाएगा, बल्कि मरीजों का इलाज शुरू किया जाएगा। इधर, कांग्रेस विधायक अजय ने कहा कि ट्रॉमा सेंटर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की देन है। पीएम मोदी इसका उद्घाटन कर अपनी पीठ थपथपाना चाह रहे हैं। समारोह आयोजन पर अब तक करोड़ों रुपये खर्च किए जा चुके हैं।

उन्होंने बताया कि मोदी के कार्यक्रम पर करीब 17 करोड़ रुपये खर्च हुआ। इसके अनुसार 4 घंटे 30 मिनट के कार्यक्रम में प्रति सेकेंड का हिसाब करें तो 10 हजार 300 रुपये का खर्च आया। यह जनता के पैसे का दुरुपयोग है। राय ने कहा कि प्रधानमंत्री के मंच पर फूल सजाते हुए मजदूर देवनाथ (20) की मौत पर संवेदना जताई। साथ ही मांग रखी कि उसके परिवार के किसी सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए और एक करोड़ रुपये का मुआवजा मिले।

दिनभर चले इस नाटकीय घटनाक्रम को लेकर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने कहा कि मजदूर की मौत पर संवेदना जताते हुए इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दौरा रद्द हुआ है। वाजपेयी ने कहा कि मोदी जी नहीं चाहते थे कि एक तरफ मजदूर की डेड बॉडी रखी हो और दूसरी तरफ उनकी सभा में लोग ताली बजाएं। इसलिए पीएम ने ये दौरा ही कैंसिल कर दिया। यदि कांग्रेस के लोग इसका उद्घाटन करने की कोशिश करते हैं तो यह बचकाना हरकत है। वह इस तरह की हरकत पर कोई टिप्पणी करना नहीं चाहते।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक दिवसीय दौरे पर बनारस आने वाले थे, लेकिन जोरदार बारिश की वजह से उनका दौरा फिर रद्द हो गया। मोदी गुरूवार को बीएचयू में बने ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन भी करने वाले थे।