‘45 मौतों’ की जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते: कांग्रेस

‘45 मौतों’ की जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते: कांग्रेस

नई दिल्‍ली : व्यापम घोटाले को लेकर कांग्रेस ने सोमवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला तेज करते हुए कहा कि निष्पक्ष जांच के लिए उन्हें बर्खास्‍त किया जाना चाहिए और मुख्यमंत्री इस मामले से जुड़ी ‘45 मौतों’ को लेकर अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते। कांग्रेस ने व्यापम घोटाले की निष्पक्ष जांच कराए जाने की मांग की है। साथ ही, यह भी कहा कि सीएम पद पर शिवराज सिंह के रहते इस घोटाले की निष्‍पक्ष जांच संभव नहीं है। विपक्षी पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनको स्पष्टीकरण देना चाहिए और ‘नैतिक जिम्मेदारी’ लेनी चाहिए।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान को बर्खास्‍त किया जाना चाहिए और व्यापमं घोटाले में निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। सुरजेवाला ने सोमवार को एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि व्‍यापम की ओर से संचालित परीक्षा के माध्यम से पुलिस बल में भर्ती हुई एक 25 वर्षीय महिला प्रशिक्षु सब इंस्पेक्टर अनामिका कुशवाहा एक झील में मृत पाई गई। अनामिका को धमकी मिली थी। अनामिका खुदकुशी पर कांग्रेस ने दावा किया कि लड़की को धमकियां मिल रही थी। उसे एक हफ्ते से धमकी मिल रही थी। सुरजेवाला ने कहा कि इस मामले की सच्‍चाई की तह तक पहुंचने, दोषियों को सजा दिलाने और अब तक 45 मौतों के लिए जिम्‍मेदार इस घोटाले की निष्‍पक्ष जांच करवाई जानी चाहिए। यह अब तक सबसे गंभीर और खतरनाक घोटाला है। उन्‍होंने कहा कि अब तक जितनी भी मौतें हुई हैं, उसकी जांच के अब तक कोई आदेश नहीं दिए गए हैं। कांग्रेस प्रवक्‍ता ने कहा कि शिवराज को तुरंत बर्खास्‍त कर देना चाहिए और मामले की निष्‍पक्ष जांच करवाई जानी चाहिए। यह जांच शिवराज सिंह को सीएम पद से हटाकर होनी चाहिए।

कांग्रेस ने यह भी आरोप लगाया कि शिवराज के करीबी मंत्री, अधिकारी इस घोटाले में आरोपी हैं। शिवराज के करीबी कुछ और लोग इसमें आरोपी हैं। शिवराज सिंह इस पूरे मामले में झूठ बोल रहे हैं। एसआईटी और एसटीएफ ने अब तक शिवराज से पूछताछ क्‍यों नहीं की। व्‍यापम घोटाले को लेकर कांग्रेस ने बीजेपी से दस सवाल पूछे हैं। मसलन, बिना शिवराज की जानकारी के यह घोटाला कैसे हुआ? शिवराज घोटाले को क्‍यों नहीं रोक पाए? घोटाले की जांच अब तक क्‍यों शुरू नहीं हुई? निष्‍पक्ष जांच के लिए शिवराज इस्‍तीफा क्‍यों नहीं दे देते आदि?

इससे पहले, व्यापमं घोटाले को लेकर अपने हमले तेज करते हुए कांग्रेस ने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस मामले से जुड़ी ‘45 मौतों’ को लेकर अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी ‘नैतिक जिम्मेदारी’ लेनी चाहिए। कांग्रेस प्रवक्ता पीसी चाको ने यहां कहा कि मुख्यमंत्री को नहीं बख्शा जा सकता। उन्हें जिम्मेदारी लेनी चाहिए। उनकी यह टिप्पणी उस वक्त आई है जब व्यापमं घोटाले की जांच से संबंधित मध्य प्रदेश के एक मेडिकल कॉलेज के डीन दिल्ली स्थित एक होटल में कल मृत पाए गए।