मोदी-मनमोहन की अर्थव्यस्थाओं में कोई फ़र्क़ नहीं: यशवंत

मोदी-मनमोहन की अर्थव्यस्थाओं में कोई फ़र्क़ नहीं: यशवंत

मुंबई। भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर सीधा हमला बोला है। सिन्हा का कहना है कि 26 मई 2014 को 75 साल से ज्यादा की उम्र वालों को दिमागी रूप से मृत घोषित कर दिया गया था। बकौल सिन्हा,उनमें मैं भी शामिल हूं। सिन्हा ने पूछा गया था कि नरेन्द्र मोदी और मनमोहन सिंह की व्यवस्थाओं में क्या फर्क है? गौरतलब है कि 26 मई को ही नरेन्द्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।

नरेन्द्र मोदी ने अपने मंत्रिमण्डल में 75 से ज्यादा की उम्र वाले नेताओं को शामिल नहीं किया था। 75 से ज्यादा की उम्र वालों में वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी,मुरली मनोहर जोशी और यशवंत सिन्हा शामिल हैं। सिन्हा के पुत्र जयंत सिन्हा नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में वित्त राज्य मंत्री हैं। यशवंत सिन्हा ने कहा कि उम्र की बजाय मानदंड स्वास्थ्य और मेंटल अलर्टनेस होनी चाहिए। 87 साल की उम्र में भी लालकृष्ण आडवाणी की याददाश्त काफी तेज है और उनकी ऊर्जा 40 साल की उम्र वाले जैसी है।

कौन लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी की मेंटल अलर्टनेस और फिजिकल एक्टिविटीज को चुनौती दे सकता है? सिन्हा वाजपेयी और चंद्रशेखर के नेतृत्व वाली सरकार में वित्त और विदेश मंत्री रह चुके हैं। आपको बता दें कि सिन्हा से पहले पार्टी के वरिष्ठ नेता शत्रुघ्न सिन्हा भी मंत्रियों के तय की गई उम्र सीमा की आलोचना कर चुके हैं।

India