विकलांग जन को आत्मनिर्भर बनाना बेहद नेक कार्य: अखिलेश

विकलांग जन को आत्मनिर्भर बनाना बेहद नेक कार्य: अखिलेश

मुख्यमंत्री ने डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में कृत्रिम अंग एवं पुनर्वास केन्द्र का लोकार्पण किया

लखनऊ: प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में कृत्रिम अंग एवं पुनर्वास केन्द्र की स्थापना से विकलांग जन के पुनर्वासन में मदद मिलेगी और उनकी कार्य क्षमता में भी बढ़ोत्तरी होगी। उन्होंने जयपुर की भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति की सराहना करते हुए कहा कि विकलांग जन को आत्मनिर्भर बनाना बेहद नेक कार्य है। उन्होंने आश्वस्त किया कि कृत्रिम अंग एवं पुनर्वास केन्द्र को राज्य सरकार हर सम्भव सहयोग प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री आज यहां डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय में कृत्रिम अंग एवं पुनर्वास केन्द्र के लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। यह केन्द्र भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति (जयपुर फुट) के सहयोग से स्थापित किया गया है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने आॅनलाइन पंजीकरण के लिए वेब पोर्टल का शुभारम्भ भी किया। इस सुविधा से विकलांग जन पहले से पंजीकरण कराकर तयशुदा तारीख पर कृत्रिम अंग प्राप्त कर सकेंगे। 

मुख्यमंत्री की मौजूदगी में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 निशीथ राय तथा समिति के संस्थापक देवेन्द्र राज मेहता ने पुनर्वास केन्द्र सम्बन्धी एम0ओ0यू0 पर हस्ताक्षर कर दस्तावेजों का आदान-प्रदान भी किया। श्री यादव ने केन्द्र की कार्यशाला का अवलोकन किया तथा 22 विकलांग जन को कृत्रिम अंग जयपुर फुट भी प्रदान किए। उन्होंने दृष्टि सामाजिक संस्थान की 06 वर्षीय बालिका को कृत्रिम अंग भी लगाए। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने बलिया के विकलांग जन श्री मिथलेश कुमार को 10 लाख 50 हजार रुपए की सहायता राशि का चेक भी प्रदान किया। 

श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार का यह प्रयास होगा कि लखनऊ सहित प्रदेश के तमाम बड़े शहरों में विशेष शिविर आयोजित कराकर, कृत्रिम अंग एवं पुनर्वास केन्द्र के उपकरण विकलांगजन को उपलब्ध कराए जाएं। ग्रामीण इलाकों में भी इसी प्रकार कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुनर्वास केन्द्र के माध्यम से निःशुल्क कृत्रिम अंग की उपलब्धता से गरीबों को काफी राहत मिलेगी। विश्वविद्यालय में इंजीनियरिंग विंग की स्थापना के सम्बन्ध में उन्होंने आश्वस्त किया कि प्रदेश सरकार इसका परीक्षण कराकर आवश्यक निर्णय लेगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकलांग जन के उत्थान में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका को ध्यान में रखकर राज्य सरकार इस विश्वविद्यालय को हर तरह का सहयोग और सहायता दे रही है। यह विश्वविद्यालय निशक्त जन की जरूरतों को ध्यान में रखकर अनुकूल वातावरण में उन्हें उच्च शिक्षा प्रदान कर रहा है। 

विकलांग जन विकास विभाग के मंत्री अम्बिका चैधरी ने अपने सम्बोधन में कहा कि मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले निशक्त विद्यार्थियों की फीस को माफ करने के साथ-साथ उन्हें निःशुल्क भोजन एवं हाॅस्टल की सुविधा प्रदान करने का अभूतपूर्व कार्य किया। सरकार का प्रयास है कि यह विश्वविद्यालय अपनी खास पहचान बनाए। निशक्त जन को बाधारहित माहौल उपलब्ध कराने के लिए विश्वविद्यालय को राष्ट्रपति द्वारा पुरस्कृत किया गया है।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 निशीथ राय ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा विश्वविद्यालय को हर सम्भव मदद दी जा रही है। संस्थान में 07 संकाय तथा उनके विभाग स्वीकृत हैं। पुनर्वास केन्द्र में कार्यशाला सहित शोध अध्ययन तथा क्लीनिकल हेल्प की सुविधा उपलब्ध होगी। केन्द्र के माध्यम से निशक्त जन को ‘जयपुर फुट’ के नाम से लोकप्रिय कृत्रिम अंग निःशुल्क प्राप्त होंगे और उन्हें इसके लिए जयपुर नहीं जाना पड़ेगा।

इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, ऊर्जा राज्य मंत्री यासर शाह, प्रमुख सचिव सूचना नवनीत सहगल, सचिव विकलांग जन विकास विभाग अनिल कुमार सागर, विश्वविद्यालय के कुलसचिव अखिलेन्द्र कुमार आदि भी मौजूद थे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India