व्हाट्स एप के कारण तलाक़ की नौबत

व्हाट्स एप के कारण तलाक़ की नौबत

उदयपुर। राजस्थान के उदयपुर में हिरणमगरी थाने में साइबर क्राइम का ऐसा मामला सामने आया जिससे छह परिवारों का दाम्पत्य जीवन खतरे में पड़ गया। सोशल मीडिया के माध्यम से हुई बदनामी से परेशान एक महिला ने अपनी जान देने का प्रयास तक कर डाला। एक अन्य मामले में तलाक की नौबत आ गई। पुलिस ने सोशल मीडिया के माध्यम से महिलाओं को बदनाम करने के आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि पुराने झगड़े का बदला लेने के लिए आरोपित ने इस कारनामें को अंजाम दिया। हिरणमगरी थाना पुलिस ने बताया कि इतना होने के बाद और तीन माह तक बदनामी के डर से प्रभावित परिवार वाले सामने नहीं आए। आखिरकार एक परिवार ने मामला दर्ज करवाया। पुलिस ने तकनीकी विशेषज्ञों की मदद ली और आरोपित नरेश जैन को गिरफ्तार कर लिया। नरेश ने मोबाइल -सिम फर्जी नाम से लिए थे।

मुम्बई में व्यवसाय करने वाले बोरज (राजसमंद) निवासी नरेश (37) पुत्र गेहरीलाल जैन ने तीन माह पहले निखिल बंशीलाल की मौत नाम से व्हाट्स एप गु्रप बनाया। इसमें उसने अपने समाज कई लोगों को जोड़ा और महिलाओं के बारे में अश्लील संदेश भेजने लगा। उसने छह परिवारों की महिलाओं के अलग-अलग व्यक्तियों से अवैध सम्बन्ध तक बता डाले। कई लोगों ने ग्रुप छोड़ दिया, तो आरोपित ने वापस जोड़ दिया।

हाल ये हो गए कि सम्बन्घित परिवारों में गृह क्लेश होने लगा। परिवारों के सम्बन्ध में जानकारी होने से वह यह जानकारियां भी शेयर कर देता था कि कौनसी महिला किस दिन और कहां गई थी। इसके चलते प्रभावित परिवारों में गलतफहमियां पैदा होने लगीं। गृह क्लेश से परेशान एक महिला ने आत्महत्या का प्रयास कर लिया। एक अन्य दम्पती ने एक-दूसरे को तलाक के नोटिस तक भेज दिए।