बर्मा के मुसलमानों के नरसंहार पर दुनिया खामोश क्यों ?

बर्मा के मुसलमानों के नरसंहार पर दुनिया खामोश क्यों ?

पिछड़ा समाज महासभा ने भारत सरकार से सख्त क़दम उठाने की अपील की 

लखनऊ: पिछड़ा समाज महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एहसानुल हक मालिक व  महासचिव शिव नारायण कुशवाहा ने एक संयुक्त बयान में कहा है कि जिस तरह से बर्मा में मुसलमानों का नरसंहार हो रहा है वह हिटलर को भी पीछे छोड़ रहा है इस बर्बरता  की जितनी भी निंदा की जाए वह कम हैए जिस तरह से  बोधों द्वारा मुसलमानों पर अत्याचार किया जा रहा है अदि इसे तत्काल रोका नहीं गया तो दुनिया  के शांतिपूर्ण देश बर्मा के बोधों के खिलाफ खड़े हो गए तो स्थिति खराब होगी।  बर्मा के मुसलमानों के बारे में अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र को सामने आकर मुसलमानों के  नरसंहार को रोकने के लिए आगे आना चाहिए साथ ही मामले को संयुक्त राष्ट्र में उठाकर बर्मा पर हर तरह की पाबंदी लगानी चाहिए । लेकिन दुनिया के सभी देश और अमेरिका जो अपने आप को दुनिया का  इंसानियत का चौधरी बनता है यह दोनों चुप हैं ऐसा लगता है कि इन दोनों के समर्थन से बर्मा में मुसलमानों का नरसंहार हो रहा है । 

नेताओं  ने अपील की कि बोधों द्वारा मुसलमानों के नरसंहार जो किया जा रहा है इसे रोकने के लिए तत्काल शांति सेना बर्मा भेजे । साथ ही भारत सरकार से भी अपील की है कि बर्मा में हो रहे मुसलमानों के नरसंहार को रोकने के लिए सख्त कदम उठाये ताकि भारत के लोकतंत्र सेकुलरिज्म बचा रहे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India