केंद्रीय कर्मचारियों को मिलेगा ज़्यादा HRA और TA

केंद्रीय कर्मचारियों को मिलेगा ज़्यादा HRA और TA

आवास और परिवहन भत्ते के लिए सरकार ने 29 शहरों की श्रेणी बढ़ाई

नई दिल्ली : सरकार ने आवास एवं परिवहन भत्ता देने के लिे 29 शहरों और कस्बों की श्रेणी के उन्नयन को आज मंजूरी दे दी। इससे इन शहरों के केन्द्रीय कर्मचारियों को ऊंचा आवास एवं परिवहन भत्ता मिल सकेगा।

केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला किया गया। सरकार ने यह कदम 2011 की जनगणना के आधार पर उठाया है। शहरों के उन्नयन का यह संशोधित वर्गीकरण एक अप्रैल 2014 से प्रभावी होगा। इससे 2014-15 के लिए सरकारी खजाने पर 128 करोड़ रुपए का बोझ पड़ेगा।

संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यहां संवाददाताओं से कहा ‘मंत्रिमंडल ने केंद्र सरकार के कर्मचरियों को आवास किराया भत्ता (एचआरए) और परिवहन भत्ता प्रदान करने के लिए 2011 की जनगणना के आधार पर कुछ शहरों-कस्बों के पुनवर्गीकरण-उन्नयन को मंजूरी दी है।’ आधिकारिक बयान में कहा गया कि जनगणना के आधार पर दो शहरों - पुणे और अहमदाबाद की श्रेणी वाई से बढ़ाकर एक्स और 21 शहरों की श्रेणी जेड से बढ़ाकर वाई कर दी गई है।

ये 21 शहर - नेल्लोर, गुड़गांव, बोकारो स्टील सिटी, गुलबर्ग, त्रिसूर, मलप्पुरम, कन्नूर, कोल्लम, उज्जैन, वसई-विरार सिटी, मालेगांव, नांदेड़-वाघला, सांगली, राउरकेला, अजमेर, इरोड़, नोएडा, फीरोजाबाद, झांसी, सिलिगुड़ी और दुर्गापुर शामिल हैं। बयान में कहा गया कि इनके अलावा परिवहन भत्ते के लिए छह शहरों पटना, कोच्चि, इंदौर, कोयंबटूर एवं गाजियाबाद की श्रेणी का ‘अन्य स्थान’ से उन्नयन कर ‘विशिष्ट उच्च श्रेणी’ कर दिया गया है।

अब तक इन शहरों और कस्बों में केंद्र सरकार के अधिकारियों को एचआरए और परिवहन भत्ता देने के लिये 2001 की जनगणना के आंकड़ों को इस्तेमाल किया जाता रहा है।