केकेआर की हार में पीयूष चावला बने विलेन

केकेआर की हार में पीयूष चावला बने विलेन

मुंबई इंडिया को मिली 5 रनों से जीत, प्ले ऑफ में पहुँचने की उम्मीदें बरक़रार 

मुंबई : मुंबई इंडियन्स ने आईपीएल आठ में आज यहां कोलकाता नाइटराइडर्स को पांच रन से हराया. बेहद रोमांचक मैच में केकेआर को आखरी ओवर में जीत के लिए 12 रनों की ज़रुरत थी ।  पॉवेल के इस ओवर की पहली गेंद पर युसूफ पठान का आउट होना केकेआर के लिए भारी पड़ा। पियूष चावला ने सात गेंदों पर 1 रन बनाया और मुंबई इंडियंस की जीत में मददगार साबित हुए। सात में 6 गेंदों पर तो अपना बल्ला तक छुआ सके ।   ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या की 31 गेंदों पर खेली गयी 61 रन की नाबाद पारी की मदद से मुंबई इंडियन्स ने शुरुआती झटकों से उबरकर कोलकाता नाइटराइडर्स के खिलाफ आज यहां वानखेडे स्टेडियम में चार विकेट पर 171 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया.

पांड्या ने तब क्रीज पर कदम रखा जबकि मुंबई पहले बल्लेबाजी का न्यौता पाने के बाद 12वें ओवर में चार विकेट पर 79 रन के स्कोर पर संघर्ष कर रही थी. दायें हाथ के इस बल्लेबाज ने अपनी पारी में आठ चौके और दो छक्के लगाये. उन्होंने कीरोन पोलार्ड (नाबाद 33) के साथ पांचवें विकेट के लिये 92 रन की अटूट साझेदारी की. इसमें पोलार्ड का योगदान 24 रन था. पांड्या के तूफानी तेवरों के कारण मुंबई ने आखिरी पांच ओवरों में 72 रन जुटाये.

केकेआर की तरफ से इस मैच में वापसी करने वाले शाकिब अल हसन सबसे सफल गेंदबाज रहे. उन्होंने 22 रन देकर दो विकेट लिये. मोर्ने मोर्कल और सुनील नारायण ने एक एक विकेट हासिल किया. मुंबई के लिये शुरुआती दस ओवरों में रन बनाना बहुत मुश्किल रहा. दस ओवर तक उसका स्कोर तीन विकेट पर 67 रन था.

पोलार्ड को भी रन बनाने के लये जूझना पडा लेकिन उनकी मौजूदगी में पांड्या ने अपने तूफानी तेवरों को अच्छा नमूना पेश किया. पोलार्ड ने 38 गेंदें खेली लेकिन वह केवल एक चौका और एक छक्का लगा पाये. कप्तान रोहित शर्मा ने 30 रन बनाये.

मुंबई ने पावरप्ले के छह ओवरों में अपने दोनों सलामी बल्लेबाजों पार्थिव पटेल (21) और लेंडल सिमन्स (14) के विकेट गंवा दिये थे. पार्थिव को जीवनदान भी मिला था लेकिन इसके तुरंत बाद उन्होंने शाकिब की गेंद पर डीप मिडविकेट पर कैच थमाया जबकि मोर्कल की फ्री हिट पर छक्का जडने वाले सिमन्स अगली गेंद को स्कूप करने के प्रयास में थर्ड मैन पर लपके गये.

नये बल्लेबाज अंबाती रायुडु (2) ने शाकिब के अगले ओवर में धीमी गेंद हवा में लहरायी जिसे आंद्रे रसेल ने आसानी से कैच करके स्कोर तीन विकेट पर 47 रन कर दिया. पोलार्ड पर दबाव साफ दिख रहा था और आलम यह था कि उन्हें अपना खाता खोलने के लिये दस गेंद तक इंतजार करना पडा.

इस बीच रोहित ने दूसरे छोर से रन बटोरने का जिम्मा उठा रखा था लेकिन तभी नारायण की खूबसूरत गेंद मुंबई इंडियन्स के कप्तान को छकाती हुई विकेटों में समा गयी. रोहित ने अपनी पारी में पांच चौके लगाये.

पोलार्ड को आगे भी अपने खुलकर खेलने में दिक्कत हुई लेकिन वह पांड्या थे जिन्होंने दर्शकों को रोमांचित किया. उन्होंने उमेश यादव पर लगातार चार चौके जडकर रन गति तेज की. उमेश की धीमी गेंद, फुलटास और शार्ट पिच किसी भी तरह की गेंद पांड्या को चौके लगाने से नहीं रोक पायी. बडौदा के इस आलराउंडर ने इसके बाद नारायण की गेंद लांग आन पर छह रन के लिये भेजी और रसेल पर दो चौके और एक छक्का लगाया.