दिल्ली ने तोडा हार का क्रम, चेन्नई को 6  विकेट से हराया

दिल्ली ने तोडा हार का क्रम, चेन्नई को 6 विकेट से हराया

रायपुर : जहीर खान की तूफानी गेंदबाजी के बाद सलामी बल्लेबाज श्रेयष अय्यर के अर्धशतक की बदौलत दिल्ली डेयरडेविल्स ने आज यहां इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपरकिंग्स को छह विकेट से हराकर लगातार चार हार के क्रम को तोडा.

जहीर (नौ रन पर दो विकेट) और एल्बी मोर्कल (21 रन पर दो विकेट) की धारदार गेंदबाजी से सुपरकिंग्स को छह विकेट पर 119 रन पर रोकने के बाद डेयरडेविल्स ने अय्यर (नाबाद 70) के उम्दा अर्धशतक की मदद से 16.4 ओवर में चार विकेट पर 120 रन बनाकर आसान जीत दर्ज की. दिल्ली की ओर से शाहबाज नदीम ने भी किफायती गेंदबाजी करते हुए चार ओवर में सिर्फ 18 रन दिए लेकिन उन्हें कोई विकेट नहीं मिला.

अय्यर ने 49 गेंद की अपनी पारी में 10 चौके और एक छक्का जडने के अलावा युवराज सिंह (32) के साथ तीसरे विकेट के लिए 69 रन जोडकर टीम की जीत की राह आसान की. प्ले आफ की दौड से पहले ही बाहर हो चुके दिल्ली ने इसके साथ ही नौ अप्रैल को चेन्नई में सुपरकिंग्स के खिलाफ एक रन की हार का बदला भी चुका कर लिया. डेयरडेविल्स हालांकि अब भी 13 मैचों में 10 अंक के साथ सातवें स्थान पर है जबकि सुपरकिंग्स 13 मैचों में 16 अंक के साथ शीर्ष पर बरकरार है.

लक्ष्य का पीछा करने उतरे डेयरडेविल्स की शुरुआत भी खराब रही और उसने तीसरे ओवर में ही क्विंटन डि काक (03) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने ईश्वर पांडे (27 रन पर दो विकेट) की गेंद पर लांग लेग पर रविचंद्रन अश्विन को कैच थमाया. फार्म में चल रहे अय्यर ने पांडे पर चौके के साथ खाता खोला और फिर मोहित शर्मा पर भी दो चौके मारे. पांडे ने हालांकि अपने अगले ओवर में कप्तान जेपी डुमिनी (06) को बोल्ड कर दिया.

अय्यर और युवराज ने सातवें ओवर में पांडे को निशाना बनाया. युवराज ने इस तेज गेंदबाज पर दो चौके मारे जबकि अय्यर ने इसी ओवर में लगातार गेंदों पर छक्का और चौका जडा. दोनों ने आठवें ओवर में टीम के 50 रन पूरे किए.

अय्यर हालांकि 32 रन के निजी स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब अश्विन की गेंद पर मोहित ने उनका कैच टपका दिया. युवराज ने इसके बाद अश्विन पर छक्का जडा जबकि अय्यर ने इसी ओवर में दो रन के साथ 36 गेंद में अर्धशतक पूरा किया. पवन नेगी ने अगले ओवर में युवराज को डीप मिडविकेट पर मोहित के हाथों कैच कराके दिल्ली को तीसरा झटका दिया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी.

डेयरडेविल्स को अंतिम छह ओवर में जीत के लिए सिर्फ 25 रन की दरकार थी. अय्यर ने इसके बाद नेगी पर लगातार दो चौके मारे. एल्बी मोर्कल (06) ने भी इस स्पिनर पर छक्का जडकर टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचाया लेकिन इसी ओवर में पांडे को कैच दे बैठे. अय्यर ने जडेजा पर चौका और फिर एक रन के साथ जीत की औपचारिकता पूरी की.

इससे पहले सुपरकिंग्स की ओर से सिर्फ फाफ डु प्लेसिस (29) और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (27) ही 20 से अधिक रन की पारी खेल पाए. धौनी ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लेकिन धीमी पिच पर उनका यह दांव नहीं चला और टीम पहले छह ओवर में एक विकेट पर 16 रन ही बना सकी जो आईपीएल आठ का पावर प्ले का सबसे कम स्कोर है. नदीम ने ड्वेन स्मिथ को पारी का पहला ओवर मेडन फेंका जबकि जहीर के अगले ओवर में भी सिर्फ एक रन बना. ब्रैंडन मैकुलम (11) ने नदीम पर चौका मारा जबकि स्मिथ ने अपनी 12वीं गेंद पर खाता खोला जब उन्होंने जहीर की गेंद को बाउंड्री के दर्शन कराए.

जहीर ने हालांकि छठे ओवर की अंतिम गेंद पर मैकुलम को मिड ऑफ पर कप्तान जेपी डुमिनी के हाथों कैच करा दिया. मैकुलम ने अपनी इस पारी के दौरान टी20 क्रिकेट में 6000 रन भी पूरे किए. वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले दुनिया के सिर्फ तीसरे बल्लेबाज हैं.

स्मिथ ने नदीम पर छक्का और गुरिंदर संधू (33 रन पर एक विकेट) पर चौका मारा लेकिन मोर्कल ने अपनी पहली ही गेंद पर उन्हें पगबाधा आउट कर दिया. उन्होंने 24 गेंद में 18 रन बनाए. सुरेश रैना (11) भी इसके बाद जयंत यादव (आठ रन पर एक विकेट) की गेंद पर डुमिनी को कैच देकर पवेलियन लौटे जिससे टीम का स्कोर तीन विकेट पर 46 रन हो गया.

डु प्लेसिस और कप्तान धोनी ने पारी को संभालाने की कोशिश की. दोनों ने धीमी पिच पर स्ट्राइक रोटेट करने को तरजीह दी और 15 ओवर में टीम का स्कोर तीन विकेट पर 83 रन तक पहुंचाया. मोर्कल ने इसके बाद गेंदबाजी में वापसी करते हुए डु प्लेसिस को बोल्ड करके सुपरकिंग्स को चौथा झटका दिया. डु प्लेसिस ने 23 गेंद में तीन चौकों से 29 रन बनाए.

धौनी ने युवराज पर छक्का और फिर चौका जडकर रन गति बढाने की कोशिश की. ड्वेन ब्रावो (08) ने संधू पर छक्के के साथ टीम का स्कोर 18वें ओवर में 100 रन के पार पहुंचाया लेकिन इसी ओवर में मिड ऑफ पर डुमिनी को कैच दे बैठे. धौनी भी अगले ओवर में जहीर का शिकार बने. उन्होंने नदीम को कैच थमाने से पहले अपनी पारी में 24 गेंद का सामना करते हुए तीन चौके और एक छक्का मारा.