भूकम्प पीड़ितों की ज़रूरतों के अनुसार भेजी जाय राहत सामग्री: मुख्यमंत्री

भूकम्प पीड़ितों की ज़रूरतों के अनुसार भेजी जाय राहत सामग्री: मुख्यमंत्री

लखनऊ: नेपाल में आए विनाशकारी भूकम्प के मद्देनजर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी मण्डलायुक्तों व जिलाधिकारियों को निर्देशित किया है कि नेपाल को भेजी जाने वाली राहत सामग्री में भूकम्प पीडि़तों की जरूरत के अनुसार वस्तुओं को वरीयता दी जाए। इस क्रम में टेण्ट, गद्दे, तिरपाल, कम्बल, पानी शुद्धिकरण की दवाइयां, स्वच्छता किट, बर्तन एवं अन्य इसी प्रकार की सामग्रियों को वरीयता देते हुए राहत सामग्री भेजी जा रही है। 

यह जानकारी देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि नेपाल में आए भूकम्प के मद्देनजर राहत सामग्री के रूप में अब तक सोनौली इण्डो-नेपाल बार्डर हेाते हुए कुल 466 ट्रक जिसमें 214 ट्रक खाद्य सामग्री (चावल, दाल, आटा, आलू, प्याज, नमक इत्यादि), 123 ट्रक बिस्किट एवं अन्य ड्राईफूड, 61 ट्रक मिनरल वाटर, 11 ट्रक मैगी/नूडल्स इत्यादि, 14 ट्रक दवाइयां/क्लीनिकल सामग्री एवं 42 ट्रक कम्बल/त्रिपाल/टेण्ट तथा 1 ट्रक बर्तन नेपाल भेजे गये हैं।

भूकम्प पीडि़तों को राहत प्रदान करने हेतु 35,912 कम्बल, 15,704 त्रिपाल/प्लास्टिक शीट्स, 3,466 तौलिया, 1,305 चटाई, 2500 टार्च तथा 864 सोलर लालटेन तथा 04 कुन्तल रस्सी भी भेजी गयी हैं।

प्रवक्ता ने कहा कि अनेक जनपदों से राहत सामग्री एकत्रित होकर गोरखपुर सोनौली रूट से नेपाल पहुंच रही है। यह सामग्री मुख्यतः लखनऊ, शाहजहांपुर, संतकबीर नगर, मुरादाबाद, मेरठ, सीतापुर, हरदोई, फैजाबाद, आगरा, बनारस, आजमगढ़, सिद्धार्थनगर, बस्ती, बिजनौर, गाजियाबाद, शामली एवं बागपत जनपद से है। मण्डी परिषद, उत्तर प्रदेश द्वारा अब तक उपलब्ध कराये गये 2,841.17 कुन्तल खाद्यान्न- आटा, चावल, आलू, प्याज इत्यादि सामग्री नेपाल भेजी जा चुकी है।

प्रवक्ता के अनुसार अब तक उ0प्र0 परिवहन निगम की बसों से काठमाण्डू एवं भैरहवा/सोनौली से कुल मिलाकर 12,316 भूकम्प पीडि़त व्यक्तियों को गोरखपुर लाया जा चुका है। वापस आने हेतु अब बहुत कम भूकम्प पीडि़त शेष रह गये हैं।

प्रवक्ता ने कहा कि निजी वाहनों एवं प्राइवेट साधनों से सोनौली वापस आये लगभग 8,327 भूकम्प पीडि़तों को सम्मिलत करते हुए अभी तक लगभग 20,643 भूकम्प पीडि़त गोरखुपर आकर ट्रेन/उ0प्र0, परिवहन निगम की बसों/प्राइवेट साधनों से अपने गन्तव्य स्थल को प्रस्थान कर चुके हैं।

Lucknow, Uttar Pradesh, India