किसानों की मौत से राजनाथ ने झाड़ा पल्ला

किसानों की मौत से राजनाथ ने झाड़ा पल्ला

कहा कि केंद्र सरकार किसानों का कर्ज माफ नहीं कर सकती

बांदा। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को बांदा के रायफल क्लब मैदान में आयोजित किसान पंचायत में कहा कि केंद्र सरकार किसानों का कर्ज माफ नहीं कर सकती। यह राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में है। किसान बीमा योजना सही न होने से किसान खुदकुशी कर रहे हैं। उनके लिए आमदनी बीमा योजना होनी चाहिए, ताकि फसल बर्बादी पर सुनिश्चित सहायता मिल सके। केंद्र सरकार चार महीने के अंदर आमदनी बीमा योजना का प्रारूप तैयार कर लेगी।

मध्य प्रदेश और हरियाणा के दौरे का हवाला देते हुए गृह मंत्री ने कहा कि वहां किसानों की अच्छी मदद की जा रही है। मध्य प्रदेश सरकार ने किसानों का ब्याज माफ कर दिया है। इशारों में कहा कि ऐसा उत्तर प्रदेश सरकार भी कर सकती है। प्रधानमंत्री ने स्थिति का सही आकलन करने के लिए भेजा है। बुन्देलखण्ड में किसानों को बहुत नुकसान झेलना पड़ा है। बुन्देलखण्ड से खुद का नाता जोड़ते हुए बोले कि यहां बहुत काम किया है, यहां नहीं आता तो दौरा अधूरा रह जाता। गृह मंत्री ने माना कि किसानों की फसल तबाह हो गई है। गेंहू के दाने पतले, चने काले और अलसी की फसल एकदम खराब हो गई है। प्रदेश सरकार को घेरा कि केंद्र सरकार ने हर तरह की फसल खरीदने के लिए शासनादेश जारी किया था। प्रदेश सरकारों से कहा था कि घाटे की भरपाई केंद्र सरकार करेगी। अफसोस इस बात का है कि राज्य सरकार ने इस दिशा में काम शुरू नहीं किया। वह नए दर पर मुआवजा भी नहीं दे रही है। प्रदेश सरकार के नुमाइंदे किसानों की फसल नहीं खरीद रहे।

गृह मंत्री ने कहा कि केंद्र प्रदेश सरकार को 27000 करोड़ रुपए देता है। पहली किस्त छह हजार करोड़ की आ चुकी है। किसानों की मुसीबत राजनीति से नहीं, दोनों सरकारों के मिलकर काम करने से दूर होगी। कर्ज माफी मुद्दे पर बोले कि केंद्र सरकार आंखों में धूल नहीं झोंकती। अगर वह कर्ज माफ करेगी तो पूरे देश के किसानों का कर्ज माफ करना होगा। प्रदेश सरकार की चुटकी ली कि चुनाव से पहले कर्ज माफ हो सकता है तो बाद में क्यों नहीं? किसान बीमा योजना भाजपा सरकार लाई थी, लेकिन बाद की सरकारों ने उसका सही क्रियान्वयन नहीं किया। नतीजा यह रहा कि किसान खुदकुशी करने को मजबूर हो गए। किसानों से अपील करते की कि वह अपने गांव में गरीब किसानों की मदद करें। उन्हें ढांढस बंधाए कि वह खुदकुशी न करें। बुन्देलखण्ड वीरों का इलाका है, यहां के किसान वीर और गौरवशाली हैं।

India