यूपी सरकार की ओर से युद्ध युद्ध स्तर पर जारी है भूकम्प पीडि़तों की सहायता

यूपी सरकार की ओर से युद्ध युद्ध स्तर पर जारी है भूकम्प पीडि़तों की सहायता

लखनऊ: नेपाल में आए विनाशकारी भूकम्प के मद्देनजर उत्तर राज्य सरकार द्वारा राहत व बचाव कार्य तेजी से किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश ने पूर्व में निर्देश दिए थे कि नेपाल में फंसे लोगों को निकालने के लिए लगातार बसें भेजी जाएं, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को सकुशल वापस लाया जा सके। प्रदेश सरकार की ओर से नेपाल को ज्यादा से ज्यादा सहायता उपलब्ध करायी जा रही है। 

यह जानकारी देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि अब तक उ0प्र0 राज्य सड़क परिवहन निगम की कुल 117 बसों से काठमाण्डू एवं 52 बसों से भैरहवा/सोनौली से कुल 8 हजार 881 भूकम्प पीडि़तों को गोरखपुर लाया जा चुका है। इसके अतिरिक्त 14 बसें काठमाण्डू से भूकम्प पीडि़तों को लेकर प्रस्थान कर चुकी हैं तथा 84 वाहन अभी भी वहां राहत एवं बचाव कार्यों हेतु उपलब्ध हैं। 

प्रदेश से नेपाल के लिए अब तक बड़ी मात्रा में चावल, दाल, आटा, कम्बल, बिस्कुट, क्लोरीन टैबलेट, टेण्ट, प्लास्टिक तिरपाल, ब्लीचिंग पाउडर, सैनिटरी पैड, तौलिये, नमकीन, ड्राई लन्च पैकेट, मिनरल वाटर की बोतलें, चीनी, ग्लूकोज, मिल्क पाउडर इत्यादि भेजे जा चुके हैं।

इसके अतिरिक्त, राज्य सरकार से भूकम्प पीडि़तों के सहायतार्थ अनेक निजी एवं स्वयंसेवी संस्थाओं तथा सामान्य नागरिकों ने राशन, खाद्य सामग्री, कपड़े, दवाइयां, अन्य आवश्यक वस्तुएं एवं श्रमदान करने हेतु सम्पर्क किया है, जिसे नेपाल सरकार से समन्वय स्थापित कर हस्तान्तरित कराया जा रहा है। 

राज्य सरकार द्वारा सीमावर्ती जनपदों पर स्थित सीमा चैकी राहत शिविर स्थापित किए गए हैं। इन राहत शिविरों में जनपदों द्वारा खान-पान की उचित व्यवस्था के साथ-साथ जीवनरक्षक दवाइयांे व स्थानीय चिकित्सकों की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। भारत-नेपाल सीमा पर टूठीबाड़ी कन्ट्रोल रूम का फोन नं0-05523248691, 9454403912, 9454416301 तथा सोनौली कन्ट्रोल रूम का फोन नं0-05522238056, 9454403911 एवं 9454416302 है।

प्रवक्ता ने कहा कि नेपाल से आ रहे भूकम्प पीडि़त शरणार्थियों के लिए मुख्य राहत शिविर गोरखपुर विश्वविद्यालय में स्थापित कर दिया गया है। इसके अलावा, कैम्पियरगंज जनपद गोरखपुर में कन्ट्रोल रूम/सहायता केन्द्र स्थापित है, जो भूकम्प पीडि़तों को गोरखपुर विश्वविद्यालय स्थित मुख्य राहत शिविर तक पहुंचने में सहायता प्रदान कर रहा है। कैम्पियरगंज कन्ट्रोल रूम का नं0-05512201004, 9454416232 है।

इसके अतिरिक्त, विदेश मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा साउथ ब्लाॅक, नई दिल्ली में भी कन्ट्रोल रूम स्थापित कर दिया गया है, जिसके फोन नं0 $911123012113, $911123014104 तथा $911123017905 हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि नेपाल में भूकम्प पीडि़तों को चिकित्सीय सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से बिहार से लगी हुई नेपाल की सीमा पर किंग जाॅर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ के 45 चिकित्सक एवं 05 एम्बुलेन्स तैनात हैं। इसके अलावा, इण्डियन मेडिकल ऐसोसिएशन बनारस द्वारा चिकित्सकों की टीम के साथ 2 एम्बुलेन्स तथा 400 यूनिट ब्लड एवं रक्त अवयव, आॅर्थोपेडिक इम्प्लाण्ट एवं डेªसिंग मैटीरियल नेपाल भेजा गया है।

Lucknow, Uttar Pradesh, India