दंगा कराने वाले ही करते हैं दंगा रोकने की बात

दंगा कराने वाले ही करते हैं दंगा रोकने की बात

गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बयान पर महासभा की प्रतिक्रिया

लखनऊ: पिछड़ा समाज महासभा ने केन्द्रीय गृह मंत्री के इस बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा की सम्प्रदायिक शक्तियों को रोकने का काम राज्य सरकार करे इस पर महासभा का कहना है कि लगभग 100 वर्षो  से सम्प्रदायिक्ता को कौन फैला रहा है। भाजपा के सहयोगी संगठन आर0एस0एस0 आदि को जिसे गृह मंत्री स्वयं अच्छे जाने है कि ये संगठन क्या कर रहे हैं नफरत के अलावा इनके पास कोई मुद्दा ही नही। उल्टा जोर कोतवाल को डटे। यह बात समझ से परे है। यह जानकारी आज यहाँ जारी एक संयुक्त वक्तव्य में महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष एहसानुलहक मलिक व राष्ट्रीय महासचिव शिवनारायण कुशवाहा ने दी।

नेता द्वय ने बताया आर0एस0एस0 व उसके सहयोगी खुले आम मुस्लिमों, दलितों, ईसाईयों व जन जातियों पर हथियारों से हमला करते है और इस हमले में उसे प्रशासन का पूरा सहयोग मिलता है पुलिस के देखरेख में यह हमले होते है पुलिस खड़ी तमासाई बनी रहती है और न्यायपालिका की भूमिका भी निष्पक्ष नही होती सरकारी अमला इन सम्प्रदायिक शक्तियों के साथ भी खड़ा होता है। तौ फिर सम्प्रदायिक्ता को रोकने की बात हास्यप्रद लगती है। नेता द्वय ने यह भी कहा देश में अब तक जितने भी दंगे हुए है यदि इस तरह के दंगे ना होते तो भारत विश्व की सबसे बड़ी ताकत होती जब दंगा कराने वाले ही दंगा रोकने की बात करेंगे तो क्या जनता इस पर विश्वास करेगी।

नेता द्वय ने यह बताया कि सम्प्रदायिक्ता के विरोध में महासभा एक लम्बे समय से संघर्ष कर रही है। यहां तक कि सम्प्रदायिक्ता के खिलाफ महासभा द्वारा दिये गये बयानों को विदेशों में भी छपा है और अभी हाल में बी0बी0सी0 ने महासभा के बयान को प्रमुखता से छापा है। इससे देश की विदेशों में छवि धूमिल हो रही है।

नेता द्वय ने यह भी बताया कि यदि केन्द्रीय गृह मंत्री ईमानदारी के साथ सम्प्रदायिक्ता को समाप्त करना चाहते है तो अब तक देश में हुए दंगों पर तत्काल श्वेत पत्र जारी करे दंगों से सम्बन्धित सभी आयोगो व कमेटियों की रिपोटों को जनता के बीच में सार्वजनिक करे और दंगा कराने वाले व दंगाईयों के खिलाफ कठारे कार्यवाही करे और सरकारी अमले को भी निर्देश दे कि यदि दंगों में किसी भी कर्मचारी व अधिकारियों की सन्लिप्ता/लापरवाही पाई तो उसकी तत्काल सेवा से समाप्त कर कठोर कार्यवाही की जायेगी। साथ ही दंगा कराने वाले व दंगाईयों से ही दंगे में हुई क्षति की पूर्ति उन्ही से कराई जायेगी केन्द्र सरकार यदि ईमानदारी से ये कड़ा निर्देश दिया और कठोरता से पालन कराया तो फिर दंगा नही होगा और इस तरह दंगा कराने वाले व दंगाईयों के हौसले पस्त होंगे।

नेता द्वय ने यह भी कहा कि सम्प्रदायिक शक्तियों खिलाफ चलाये जा रहे अभियान को और तेज करेगा महासभा। महासभा ने देश के सभी नागरिकों से अपील की है कि सम्प्रदायिक शक्तियों व दंगाईयों की दंगा के समय वीडियों बनाकर महासभा को भी भेजे ताकि कानूनी कार्यवाही कराई जा सकें।

Lucknow, Uttar Pradesh, India