क्या गरीब और किसान मेक इन इंडिया नहीं करता?

क्या गरीब और किसान मेक इन इंडिया नहीं करता?

पंजाब दौरा बीच में छोड़ राहुल ने लोकसभा में उठाया किसानों का मुद्दा 

नई दिल्ली : कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दो दिन का पंजाब दौरा बीच में छोड़कर बुधवार को अचानक दिल्ली लौटे और लोकसभा में पंजाब-हरियाणा की अनाज मंडी में किसानों की बदहाली का मुद्दा उठाया। राहुल गांधी ने कहा कि एक तरफ मंडियों में फसलें सड़ रही हैं। किसान दर्द से कराह रहे हैं और हरियाणा के मंत्री उन्हें कायर बता रहे हैं

किसानों का मुद्दा उठाते हुए राहुल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ताना कसा और कहा, पीएम भारत आए हुए हैं, किसानों से मिल लें। उन्हें कुछ दिन पंजाब जाकर किसानों से जमीन पर मिलना चाहिए। ताकि किसानों के दर्द की असलियत को समझ पाएं। राहुल ने कहा, मंडियों में फसलें सड़ रही हैं। यह सरकार किसानों और मजदूरों की सरकार नहीं है। राहुल ने आरोप लगाया कि इस सरकार में किसानों की कोई मदद नहीं की गई। राहुल ने सरकार को सुझाव भी दिया कि सरकार को मंडियों से जल्द से जल्द खरीद करनी चाहिए।

राहुल ने संसद में सरकार से पूछा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'मेक इन इंडिया' की बात करते हैं, जो किसान गेहूं उपजाकर पूरे देश का पेट भरता है तो क्या वह 'मेक इन इंडिया' नहीं कर रहा है। गरीब जो 'मेक इन इंडिया' करता है क्या वो 'मेक इन इंडिया' नहीं होकर कुछ और होता है क्या?'

अकाली दल नेता और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत सिंह कौर बादल ने राहुल के बयान पर जवाब देते हुए कहा कि जब ओले गिर रहे थे, बेमौसम बारिश हो रही थी, तब राहुल गांधी कहां थे? राहुल गांधी के ड्रामे से लोग परेशान हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को पूरा मुआवजा दिया गया और अनाज को खरीदा जा रहा है। किसानों का पूरा अनाज खरीदा जाएगा।

इससे पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मौसम की मार से प्रभावित किसानों से मुलाकात करने मंगलवार को पंजाब पहुंचे थे। ट्रेन के जनरल कोच में बैठकर अंबाला पहुंचे राहुल गांधी का जोरदार स्वागत किया गया। कहा जा रहा है कि 10 साल के राजपथ से अब विपक्ष के जनपथ की यात्रा पर निकले राहुल गांधी का राजनीति में यह नया अवतार है। किसानों से जुड़े भूमि अधिग्रहण बिल की तलवार खुद मोदी ने ही विपक्ष के हाथ में थमा दी है और अब किसानों को भी राहुल की राजनीति भाने लगी है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मंगलवार को पंजाब में किसानों की सुध लेने पहुंचे। पहले उन्होंने ट्रेन के जनरल कोच में सफर कर अंबाला पहुंचे और फिर लुधियाना जिले के खन्ना में स्थित एशिया की सबसे बड़ी अनाज मंडी में पहुंचकर किसानों से बात की। फिर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने सरकार पर तीखे हमले किए।

किसान का गेहूं ना उठाने के लिए उन्होंने केंद्र सरकार को सीधे रूप से दोषी ठहराया साथ में उन्होंने यह भी कहा कि बे-मौसम बारिश और ओलावृष्टि की वजह से बर्बाद हुई फसलों का मुआवजा भी किसानों को नहीं दिया गया।

उन्होंने कहा के सरकार कहां हैं यह किसी को नहीं पता। राहुल ने मौजूदा सरकार को कुछ पूंजीपतियों की सरकार बताया। उनके मुताबिक सरकार पूंजीपतियों के हाथ में खेल रही है और गरीब किसानों की ज़मीन छीन कर उन्हीं पूंजीपतियों को दे देना चाहती है लेकिन कांग्रेस पार्टी ये किसी भी कीमत पर नहीं होने देगी और किसानों की जमीन किसानों के पास ही रहेगी।