ऐश्वर्या पर नस्लभेदी विज्ञापन का आरोप

ऐश्वर्या पर नस्लभेदी विज्ञापन का आरोप

मुंबई। ऐश्वर्या राय बच्चन ज्वैलरी के एक विज्ञापन को लेकर विवादों में फंस गई हैं। इस विज्ञापन में ऐश्वर्या को शानदार आभूषण पहने दिखाया गया है। उनके ठीक पीछे एक अश्वेत बच्चा हाथ में छाता लेकर खड़ा है। सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इसे नस्लभेदी करार देते हुए ऐश्वर्या से सवालों का सिलसिला शुरू कर दिया है।

सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि इस विज्ञापन में नस्लभेद और बाल मजदूरी दिखाई जा रही है। उधर, ऐश्वर्या का कहना है कि जब विज्ञापन की शूटिंग हुई थी, तब ऐसा कुछ नहीं था। कंपनी ने बाद में इमेजिंग के जरिए इस बच्चे के चित्र को जोड़ा गया है।

आपत्ति जताने वाले इन कार्यकर्ताओं में महिला और बच्चों के अधिकार के लिए लड़ने वाले कई लोग शामिल हैं। इनमें फराह नकवी, हर्ष मंदर और राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग की पूर्व अध्यक्ष शांता सिन्हा भी शामिल हैं। सामाजिक कार्यकर्ताओं के इस समूह ने ऐश्वर्या को चिट्ठी लिखकर अपनी नाराजगी जाहिर की है। इसमें ऐश्वर्या पर बाल श्रम को बढ़ावा देने का आरोप लगाया गया है। उनसे अपील की गई है कि वह इस विवादित विज्ञापन से दूरी बना लें।