डुमिनी ने दिलाई दिल्ली को जीत

डुमिनी ने दिलाई दिल्ली को जीत

सनराइजर्स हैदराबाद को चार रन से हराया 

विशाखापट्टनम : कप्तान जेपी डुमिनी ने अर्धशतक जड़ने के बाद चार विकेट भी चटकाए जिससे दिल्ली डेयरडेविल्स ने इंडियन प्रीमियर लीग के बेहद रोमांचक मुकाबले में आज यहां सनराइजर्स हैदराबाद को चार रन से हराकर लगातार दूसरी जीत दर्ज की।

डेयरडेविल्स ने डुमिनी (54) के अर्धशतक और श्रेयाष अय्यर (60) के साथ उनकी दूसरे विकेट की 78 रन की साझेदारी की मदद से चार विकेट पर 167 रन बनाए। टीम ने इसके बाद डुमिनी (17 रन पर चार विकेट) की फिरकी के जादू की बदौलत सनराइजर्स को आठ विकेट पर 163 रन के स्कोर पर रोक दिया। सनराइजर्स की ओर से रवि बोपारा ने सर्वाधिक 41 रन बनाए। दिल्ली के चार मैचों में दो जीत और दो हार से चार अंक हो गए हैं जबकि चार मैचों में तीसरी हार झेलने वाले सनराइजर्स के अभी दो ही अंक हैं।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे सनराइजर्स को कप्तान डेविड वार्नर (28) और शिखर धवन (18) ने पहले विकेट के लिए 50 रन जोड़कर अच्छी शुरुआत दिलाई। दोनों ने पहले चार ओवर में सतर्क बल्लेबाजी की जिससे एक भी चौका नहीं लगा। धवन ने पांचवें ओवर में एंजेलो मैथ्यूज के ओवर में तीन चौके जड़कर हाथ खोले जबकि वार्नर ने अगले ओवर में डोमिनिक जोसफ मुथ्थूस्वामी पर चार चौके जड़कर टीम का स्कोर 50 रन तक पहुंचाया।

दिल्ली के कप्तान डुमिनी ने हालांकि स्पिन का जादू चलाते हुए अगले ओवर में वार्नर और धवन दोनों को पवेलियन भेजकर टीम को वापसी दिलाई। डुमिनी ने धवन को बोल्ड किया जबकि वार्नर ने इस स्पिनर को वापस कैच थमाया। बोपारा और लोकेश राहुल (24) ने इसके बाद तीसरे विकेट के लिए 38 रन जोड़कर पारी को संभालने की कोशिश की।

बोपारा ने नाथन कोल्टर नील पर चौका और फिर छक्का जड़कर 14वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया। उन्होंने इसके बाद इमरान ताहिर पर भी छक्का जड़ा लेकिन इस स्पिनर ने इसी ओवर में नमझ ओझा (12) को डुमिनी के हाथों कैच कराके सनराइजर्स को चौथा झटका दिया।

सनराइजर्स को अंतिम चार ओवर में 48 रन चाहिए थे। बोपारा ने गेंदबाजी में वापसी पर डुमिनी का स्वागत लांग आफ पर छक्के के साथ किया लेकिन इस आफ स्पिनर ने इसी ओवर में उन्हें लांग आफ पर ही मनोज तिवारी के हाथों कैच करा दिया। बोपारा ने 30 गेंद का सामना करते हुए एक चौका और तीन छक्के मारे। डुमिनी ने इसी ओवर में इयोन मोर्गन (01) को भी बोल्ड करके सनराइजर्स को बड़ा झटका दिया।

कर्ण शर्मा (10 गेंद में 19) और आशीष रेड्डी (आठ गेंद में 15 रन) ने हालांकि सनराइजर्स को मैच में बनाए रखा। कर्ण ने ताहिर पर लगातार दो छक्के जड़े जबकि आशीष रेड्डी ने मैथ्यूज पर चौका और छक्का मारा। टीम को अंतिम ओवर में 10 रन चाहिए थे। कोल्टर नील के दूसरी गेंद पर आशीष रेड्डी रन आउट हो गए। इसके बाद मैच का निर्णायक पल गया। कर्ण ने गेंद को हवा में खेला और यह छह रन के लिए जा रही थी लेकिन मयंक अग्रवाल ने बाउंड्री पर उछलकर गेंद को वापस मैदान पर फेंक दिया और दो ही रन बने। कर्ण अगली गेंद पर मैथ्यूूज को कैच दे बैठे जिससे दिल्ली ने जीत दर्ज की।

इससे पहले अय्यर और डुमिनी ने टीम के चुनौतीपूर्ण स्कोर की नींव रखी। अय्यर ने 40 गेंद की अपनी पारी में तीन चौके और पांच छक्के मारे जबकि डुमिनी की 41 गेंद की पारी में पांच चौके और दो छक्के मारे। टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने उतरी दिल्ली की टीम ने तीसरे ओवर में ही मयंक अग्रवाल (01) का विकेट गंवाया जिन्होंने भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर स्लिप में धवन को कैच थमाया।

अय्यर और डुमिनी ने इसके बाद पारी को संवारा। अय्यर ने अधिक आक्रामक रूख अपनाया। उन्होंने प्रवीण कुमार पर चौके के साथ खाता खोला और फिर डेल स्टेन की गेंद को भी बाउंड्री के दर्शन कराए। अय्यर ने प्रवीण और कर्ण शर्मा पर छक्के जड़कर अपने तेवर दिखाए और आठवें ओवर में टीम का स्कोर 50 रन के पार पहुंचाया। डुमिनी ने भी स्टेन और बोपारा पर चौके मारे।

अय्यर ने कर्ण के अगले ओवर में लगातार दो छक्के मारे। उन्होंने आशीष रेड्डी पर भी छक्का जड़ा लेकिन प्रवीण की गेंद पर छक्का मारने की कोशिश में गेंद को हवा में लहरा गए और वार्नर ने कैच लपकने में कोई गलती नहीं की। प्रवीण के इसी ओवर में युवराज सिंह भाग्यशाली रहे जब बोपारा ने उनका मुश्किल कैच टपका दिया। डुमिनी ने 15वें ओवर में बोपारा को निशाना बनाते हुए दो चौके और एक छक्का मारा और फिर स्टेन पर छक्के के साथ 39 गेंद में अर्धशतक पूरा किया। स्टेन ने हालांकि इसी ओवर में उन्हें बोल्ड करके दिल्ली को तीसरा झटका दिया।

आशीष रेड्डी ने इसके बाद युवराज (09) को पवेलियन भेजा। वार्नर ने बाउंड्री पर उनका शानदार कैच लपका। केदार जाधव (12 गेंद में 19 रन) और एंजेलो मैथ्यूज (11 गेंद में 15 रन) ने अंत में 3.5 ओवर में 35 रन की अटूट साझेदारी करके टीम का स्कोर 150 रन के पार पहुंचाया। सनराइजर्स की ओर से भुवनेश्वर ने किफायती गेंदबाजी करते हुए चार ओवर में 21 रन देकर एक विकेट चटकाया। प्रवीण, स्टेन और आशीष रेड्डी को भी एक एक विकेट मिला।