जनता परिवार का विलय, मुलायम होंगे मुखिया

जनता परिवार का विलय, मुलायम होंगे मुखिया

नाम, चुनाव चिन्ह और झंडे पर फैसला बाद में  

नई दिल्ली : जनता परिवार में बुधवार को छह पार्टियों का विलय हो गया। इस नई पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव होंगे। पार्टी के नाम, चुनाव चिन्ह और झंडे पर अभी फैसला होना बाकी है। जनता परिवार में सपा, जद-यू, राजद, आईएनएलडी,जेडीएस पार्टियों का विलय हुआ।

जनता परिवार के छह दलों में नीतीश कुमार की जनता दल (यूनाइटेड), लालू प्रसाद यादव की राष्ट्रीय जनता दल (RJD) , मुलायम सिंह यादव की समाजवादी पार्टी (SP), ओम प्रकाश चौटाला की इंडियन नेशनल लोक दल (INLD), जनता दल (सेक्यूलर) और समाजवादी जनता पार्टी (SJP) है। 

एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए राजद के सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने कहा कि मुलायम सिंह यादव की अगुवाई में नई पार्टी मोदी से जंग लड़ेगी। लालू ने कहा, 'सांप्रदायिक पार्टियों से देश को खतरा है।' एक समिति नई पार्टी के झंडे, नाम और चुनाव चिन्ह पर फैसला करेगी।

लालू ने कहा कि सांप्रदायिक ताकतों से मुकाबला करने के लिए देश के समाजवाजी इकट्ठा होंगे। लालू ने कहा, 'हम सभी लोग मिलकर मोदी का सफाया करेंगे। हमारे बीच अहम का टकराव नहीं है।'

जबिक नीतीश कुमार ने कहा कि छह पार्टियों के एकजुट होने की बात लंबे समय से चल रही थी। नीतीश ने कहा, 'हम नए दल के रूप में उभरेंगे।' जबकि आईएनएलडी के अभय चौटाला ने कहा कि देश में एक नई राजनीति की शुरुआत हुई है।

सपा सुप्रीमो ने मुलायम सिंह यादव ने कहा, 'मौजूदा सरकार ने किसी भी मुद्दे पर विपक्ष की कोई राय नहीं ली। सरकार ने वादे के मुताबिक कोई काम नहीं किया। जनता परिवार में छह पार्टियों का विलय एक ऐतिहासिक निर्णय है।'