आडवाणी के भाषण न देने पर जेटली ने दी सफाई

आडवाणी के भाषण न देने पर जेटली ने दी सफाई

नई दिल्ली। बैंगलुरू में बीजेपी कार्यकारिणी बैठक के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी संबोधित किया। बैठक में लैंड बिल सहित कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई। अरुण जेटली ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि बैठक में किन-किन मुद्दों पर चर्चा हुई। साथ ही बीजेपी और सरकार के भविष्य के प्लान की जानकारी दी। जेटली ने आडवाणी के भाषण न देने के मुद्दे पर भी सफाई दी। आडवाणी के भाषण नहीं दिए जाने पर जेटली ने कहा कि पार्टी की अपनी व्यवस्था होती है और सब उसी पर चलते हैं। आडवाणी जी हमारे वरिष्ठ नेता हैं, सो जब चाहें हमें गाइड कर सकते हैं।

जेटली ने कहा कि पार्टी ने जमीन अधिग्रहण बिल पर सरकार का मजबूती से साथ देने का फैसला किया है। 2013 का जमीन बिल किसान विरोधी था और हमारी सरकार उसे बदल रही है। हमारी सरकार ने लैंड बिल में 9 बदलाव किए हैं। अगर विपक्ष कुछ सुझाव लेकर आता है तो हम उस पर जरूर चर्चा करेंगे।

मई जून में पार्टी का मास कैंपेन चलेगा। सितंबर से स्टडी कैंप चलेगा। 6 अप्रैल को बीजेपी के स्थापना दिवस को बड़े पैमाने पर मनाया जाएगा। मई में बूथ स्तर पर पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। देश के सभी जिलों में बीजेपी दफ्तर खोले जाएंगे। 21 जून को योग दिवस शानदार तरीके से मनाएंगे।

जेटली ने बताया कि पीएम ने अपने भाषण में पार्टी विस्तार की प्रशंसा की। उन्होंने (पीएम) बताया कि किस तरह सरकार आगे बढ़ रही है। बैठक में चर्चा का बड़ा हिस्सा रहा ग्रामीण सड़कें, सिंचाई, गरीबों के लिए घर। इंडस्ट्रियल कॉरिडोर सभी के लिए जॉब की संभावना खोलेगा।

जेटली ने कहा कि बैठक में राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव पेश किए गए। राजनाथ सिंह ने राजनीतिक प्रस्ताव पेश किया। राम माधव ने जम्मू कश्मीर पर प्रेजेंटेशन दिया। जबकि गोपाल अग्रवाल ने विस्तार से भूमि अधिग्रहण बिल पर प्रेजेंटेशन दिया। नितिन गडकरी ने सभी बिल पर शानदार प्रेजेंटेशन दिया।