पुलिस भर्ती में धांधली नहीं महा घोटाला हुआ है: डा0  बाजपेयी

पुलिस भर्ती में धांधली नहीं महा घोटाला हुआ है: डा0 बाजपेयी

लखनऊ:  भारतीय जनता पार्टी ने उ0प्र0 पुलिस भर्ती में हुई धांधली को महा घोटाला बताया है। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डा0 लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने पुलिस भर्ती परिणामों पर तत्काल रोक लगाकर पूरे मामले की हाईकोर्ट की निगरानी में एसआईटी से जांच कराने की मांग की है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि जिस तरह से पांच लोकसभा क्षेत्रों से ही सर्वाधिक अभ्यर्थियों के चयनित होने की बात सामने आ रही है। वह स्पष्ट रूप से इस बात का प्रमाण है कि पुलिस भर्ती में बड़े पैमाने पर हेरा-फेरी की गयी है।

भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा कि सपा व बसपा सरकार का भर्तियों में पक्षपात और भ्रष्टाचार का पुराना इतिहास रहा है। जिसकी पुनरावृत्ति वर्तमान पुलिस भर्ती में हुई है। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि पूरे प्रदेश में पुलिस आरक्षी भर्ती के परिणाम के बाद अभ्यर्थियों द्वारा किये जा रहे विरोध प्रदर्शन को सरकार रासुका लगाने का भय दिखाकर दबाना चाहती हैं जो बेरोजगार युवकों के साथ जहां अन्नाय है वहीं भ्रष्टाचार के खिलाफ उठ रही आवाज को दबाना है। उन्होंने कहा कि अन्याय के खिलाफ जनता की आवाज का कोई दवा नहीं सकता। 

डा0 बाजपेयी ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न जनपदों में अभ्यर्थियों द्वारा किये जा रहे विरोध प्रर्दशन से सरकार की आंख खुल जानी चाहिए। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रदेश के युवा मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश के बेरोजगार युवकों को दिया जा रहा यह तोहफा प्रदेश का युवा याद रखेगा। भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि यदि सरकार में तनिक भी ईमानदारी है तो उच्च न्यायालय के देख रेख में एसआईटी का गठन कर मामले की जांच और उच्च न्यायालय के दिशा निर्देश में पुलिस भर्ती के परिणाम घोषित किये जाये।

डा0 बाजपेयी ने प्रदेश सरकार से मांग कि 1- जनपदवार पुलिस भर्ती में सफल अभ्यर्थियों की सूची जारी की जाये ताकि यह तथ्य स्पष्ट हो सके कि किस जनपद से कितने अभ्यर्थी उत्र्तीण हुए है? 2- सरकार यह बताये कि वो ओ.एम.आर. सीट पर व्हाईट फ्लूड लगाना अनुमन्य है ? 3- यदि अनुमन्य है तो यह बताये कि कितनी ओ.एम.आर. सीट पर व्हाईट फ्लूड लगा था ? 

भाजपा अध्यक्ष डा0 बाजपेयी ने कहा कि हम प्रदेश के बेरोजगार युवको के साथ हो रहे अन्याय को कतई बर्दास्त नहीं करेगे। उन्होंने कहा यदि सरकार पुलिस अभ्यर्थी परीक्षा परिणाम निरस्त कर हाईकोर्ट के देख-रेख में एसआईटी से जांच की उनकी मांग नहीं मानती है तो हम इस भर्ती महा घोटाले के खिलाफ कड़ा संघर्ष करेंगे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India