अखिलेश ने दी हज यात्रियों को बधाई

अखिलेश ने दी हज यात्रियों को बधाई

हज यात्रा के लिए 22,019 लोगों की निकली लॉटरी, मुख्यमंत्री ने किया क़ुराअन्दाज़ी का शुभारम्भ

लखनऊ:मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि राज्य सरकार अपने फैसलों को लागू कर समाज के कमजोर व निर्धन वर्गों को लाभान्वित कर रही है। समाज में कायम सदभाव के माहौल को खराब करने का प्रयास करने वाली ताकतों का लगातार मुकाबला करते हुए राज्य सरकार ने आपसी भाईचारा बढ़ाया है। 

मुख्यमंत्री आज यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में हज-2015 के लिए आयोजित क़ुराअन्दाज़ी कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने हज यात्रियों के चयन के लिए क़ुरा (कम्प्यूटराइज्ड लाॅटरी) का शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री ने जनपद कन्नौज के हज यात्रियों का चयन किया। 

श्री यादव ने पवित्र हज की यात्रा के लिए चयनित होने वालों को बधाई देते हुए उनकी सकुशल यात्रा की मंगल कामना की। हज यात्रियों की सुविधा के लिए राज्य सरकार ने अनेक कार्य किए हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि राज्य हज समिति द्वारा हज यात्रियों के लिए और बेहतर इंतजाम किए जाएंगे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार अल्पसंख्यक वर्गों के सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक उत्थान के लिए भी सार्थक प्रयास कर रही है। समाजवादी पेंशन योजना के जरिए बड़ी संख्या में गरीब अल्पसंख्यक परिवारों को लाभ मिल रहा है। आर्थिक और सामाजिक विकास में शिक्षा के योगदान को महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा को बढ़ावा देने वाले देश ही विकसित और खुशहाल बने हैं। शिक्षा के प्रसार में नगर विकास मंत्री के प्रयासों की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से भावी पीढि़यों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा। उन्होंने आश्वस्त किया कि गाजियाबाद के हज हाउस के निर्माण के लिए धन की कमी नहीं होने दी जाएगी। 

नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां ने कहा कि इस वर्ष प्रदेश के लिए 22,019 हज यात्रियों का कोटा केन्द्रीय हज समिति द्वारा निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि गाजियाबाद में हज हाउस का निर्माण कार्य प्रगति पर है। राज्य हज समिति वाराणसी में हज हाउस के निर्माण के लिए प्रयासरत है। शिक्षा के क्षेत्र में अपने प्रयासों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि तालीम के काम से बेहतर कोई काम नहीं है।

इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, सांसद मुनव्वर सलीम सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India