जिम्बाब्वे को हराकर क्वार्टर फाइनल की दौड़ में आई आयरलैंड

जिम्बाब्वे को हराकर क्वार्टर फाइनल की दौड़ में आई आयरलैंड

होबार्ट: आयरलैंड क्रिकेट टीम ने बेलेरीव ओवल मैदान पर शनिवार को खेले गए आईसीसी विश्व कप-2015 के पूल-बी मुकाबले में जिम्बाब्वे को पांच रनों से हरा दिया। इस जीत ने आयरिश टीम को अंक तालिका में चौथे स्थान पर पहुंचा दिया है। वह अब क्वार्टर फाइनल में दौड़ में आ चुकी है।

आयरलैंड ने मैन ऑफ द मैच चुने गए एड जॉयस (112) और एंडी बालबिर्नी (97) की तेज पारियों की बदौलत जिम्बाब्वे के सामने 332 रनों का लक्ष्य रखा। जवाब में जिम्बाब्वे की टीम 49.3 ओवरों में 326 रन बना सकी।

जिम्बाब्वे ने 74 रनों पर चार विकेट गंवाने के बाद ब्रेंडन टेलर (121) और सीन विलियम्स (96) के दम पर न सिर्फ मैच में वापसी की बल्कि जीत के काफी करीब पहुंचने में भी कामयाब रहा।

टेलर अपने करियर का सातवां शतक लगाने के बाद 223 रनों के कुल योग पर आउट हुए। टेलर ने इस शतक के दौरान एकदिवसीय क्रिकेट में 5000 रन पूरे कर लिए। टेलर और विलियम्स के बीच पांचवें विकेट के लिए 149 रनों की साझेदारी हुई।

दूसरी ओर, केविन ओब्रायन की गेंद पर सीमा रेखा पर जान मूनी के हाथों कैच आउट होने से पहले 83 गेंदों का सामना कर सात चौके और दो छक्के लगाने वाले विलियम्स का विकेट 300 के कुल योग पर गिरा।

इस विकेट के साथ जिम्बाब्वे की जीत की उम्मीदें खत्म हो गई थीं लेकिन तवांदा मुपारिवा (18) ने केविन ओब्रायन के एक ही ओवर में 19 रन लेकर अपनी टीम को फिर से जीत की स्थिति में ला दिया।

जिम्बाब्वे को अंतिम ओवर में जीत के लिए सात रन चाहिए थे और उसके पास छह गेंदें और दो विकेट बची थी। अंतिम ओवर एलेक्स कुसाक लेकर आए।

पहली ही गेंद पर उन्होंने रेगिस चकाब्वा (17) को क्लीन बोल्ड कर दिया और फिर तीसरी गेंद पर मुपारिवा को विलियम पोर्टरफील्ड के हाथों कैच कराकर अपनी टीम को पांच रनों की रोमांचक जीत दिला दी।

इससे पहले, टॉस हारने के बाद बल्लेबाजी करने उतरी आयरिश टीम ने निर्धारित 50 ओवरों में आठ विकेट पर 331 रन बनाए। जॉयस ने 103 गेंदों पर नौ चौके और तीन छक्के लगाए जबकि एंडी ने 79 गेंदों का सामना कर सात चौके और चार छक्के लगाने में सफल रहे।

जॉयस आयरलैंड के लिए विश्व कप में शतक लगाने वाले चौथे बल्लेबाज हैं। उनसे पहले जेपी ब्रे (115 नाबाद बनाम जिम्बाब्वे, 2007), केविन ओब्रायन (113 बनाम इंग्लैंड, 2011) और पीआर स्टर्लिग (101 बनाम नीदरलैंड्स, 2011) ने विश्व कप में शतक लगाए हैं।

जॉयस और एंडी ने 79 रन के कुल योग पर विलियम पोर्टरफील्ड (29) तथा स्टर्लिग (10) का विकेट गिरने के बाद तीसरे विकेट के लिए 138 रन जोड़े। यह इस मैच में आयरलैंड की सबसे बड़ी साझेदारी रही। जॉयस और पोर्टरफील्ड ने भी दूसरे विकेट के लिए 63 रन जोड़े थे।

यह किसी भी संबद्ध टीम का एकदिवसीय क्रिकेट में तीसरा सबसे बड़ा स्कोर है। केन्या ने 1997 में बांग्लादेश के खिलाफ तीन विकेट पर 347 रन बनाए थे, जो सबसे बड़ा स्कोर है। इसके अलावा स्काटलैंड ने बीते साल कनाडा के खिलाफ नौ विकेट पर 341 रन बनाए थे।

जिम्बाब्वे की ओर से सीन विलियम्स और तेंदाई चातारा ने तीन-तीन विकेट लिए।

जिम्बाब्वे का यह पांचवां मैच था। अब तक के सफर में उसे केवल एक जीत मिली है और उसके दो अंक है। टीम को आखिरी मैच विश्व चैम्पियन भारत के खिलाफ खेलना है। ऐसे में जिम्बाब्वे के नॉकआउट में पहुंचने की संभावना नहीं के बराबर है।

दूसरी ओर, आयरलैंड को चार मैचों में से तीन में जीत मिली है और उसके छह अंक हैं। यह टीम अब वेस्टइंडीज से ऊपर तालिका में चौथे स्थान पर है। उसे अपने अंतिम मैच में पाकिस्तान से भिड़ना है।