कमल ककड़ी की सब्ज़ी का सेवन दूर करे खून की कमी, पेशाब और हड्डियों के रोग में लाभदायक

कमल ककड़ी की सब्ज़ी का सेवन दूर करे खून की कमी, पेशाब और हड्डियों के रोग में लाभदायक

बेहद आम दिखने वाली कुछ चीजें स्वाद में जितनी बेहतर होती है, उतनी ही स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होती हैं। ऐसी ही एक सब्जी है जिसे बहुत से लोग खाना पसंद नहीं करते हैं या वो यह नहीं जानते हैं कि ऐसी कोई सभी होती है जिसे खाया जाता है। इस सब्जी का नाम कमल ककड़ी है। इसके नाम से ही पता चलता है की ये कमल का ही एक अंग है और ककड़ी की तरह लंबा होता है। इसकी जड़ें पानी के अंदर और फूल और पत्ते पानी के ऊपर होते है।

इस सब्जी को सिर्फ खाने में ही नहीं, बल्कि औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि इसमें विटामिन, मिनरल, पोटैसियम, मैग्नेशियम, थाइमिन जिंक और आयरन जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो शरीर के बेहतर कामकाज के लिए जरूरी है।

नियमित रूप से इसका सेवन करने से आपको खून की कमी से बचने, हड्डियों को मजबूत बनाने, पेट को दुरुस्त रखने, इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने, ब्लड शुगर को कंट्रोल रखने आदि में सहायता मिलती है। चलिए जानते हैं इसे खाने से और क्या-क्या फायदे होते हैं।

रोजाना इस सब्जी को खाने से इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा यह हड्डियों को भी मजबूत बनाती है जिससे कोई भी रोग जल्दी नहीं होता है।

इस सब्जी को मूत्रवर्धक के रूप में जाना जाता है। अगर आपको पेशाब रुकने की समस्या है, तो आपको इस सब्जी का सेवन करना चाहिए। इसके रस में शक्कर मिलाकर सेवन करने से बहुत जल्द ही इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।

अगर आपके शरीर में खून की कमी है, तो आपको नियमित रूप से इसका सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें काफी मात्रा में आयरन पाया जाता है। आंखों और बालों के लिए भी ये कारगर साबित हो सकती है।

जो लोग अपने वजन से परेशान है और वो अपना वजन कम करना चाहते है तो उन्हें तो अवश्य ही कमलककड़ी का सेवन करना ही चाहिए। इसमें कम कैलोरी और फाइबर की मात्रा अधिक होती है जिस वजह से वजन कंट्रोल रखने में मदद मिलती है।

कमल ककड़ी में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि कमल ककड़ी का उपयोग इन्फ्लेमेशन को कम करने में प्रभावशाली साबित हो सकता है। इसलिए, कहा जा सकता है कि कमल ककड़ी के फायदे सूजन को कम करने में भी मिल सकते हैं।

कमल ककड़ी का सेवन कैंसर का खतरा कम करने में भी यह मदद कर सकता है। कमल ककड़ी में मौजूद बायोटिक फाइटोकेमिकल्स को औषधि के रूप में उपयोग किया जाता है। ये कंपाउंड पेट में कैंसर की कोशिकाओं को पनपने से रोकने में मदद कर सकते हैं।