क़ानून व्यवस्था में सुधार के लिए नियुक्ति नहीं नीयत को बदलना होगा

क़ानून व्यवस्था में सुधार के लिए नियुक्ति नहीं नीयत को बदलना होगा

यूपी में कमिश्नर प्रणाली लागू करने पर अजय कुमार लल्लू का बयान

लखनऊ: उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पूरे सूबे में कानून नाम की कोई चीज नहीं बची हुई है। हत्या-बलात्कार और लूट तो लखनऊ, इलाहाबाद और नोएडा जैसे शहरों में भी आम बात हो गयी है। अपराधियों के हौसले बुलंद हैं क्योंकि उन्हें सरेआम सत्ता का संरक्षण मिला हुआ है।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इलाहाबाद में युसुफपुर में विजय शंकर तिवारी के पूरे परिवार की हत्या हो गई लेकिन अभी तक पुलिस हत्याकाण्ड का पर्दाफाश नहीं कर पाई। उन्होंने कहा कि नोएडा में गौरव चंदेल की हत्या हुई लेकिन पुलिस कार्रवाही नहीं हुई और हत्यारे पुलिस के गिरफ्त से बाहर हैं। लखनऊ में एक नौजवान वकील की हत्या हो गई, पुलिस बस तमाशा देख रही है। पूरा प्रदेश जल रहा है और नीरो बंसी बजा रहा है।

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि एक तरफ पूरे सूबे में जंगलराज फैला हुआ है। कानून व्यवस्था ध्वस्त है। दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सूबे में पुलिसराज कायम करने का खाका बना लिए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री लोकतंत्र और अभिव्यक्ति की आजादी को कुचलने के लिए साजिश रच रहे हैं जिसको जनता स्वीकार नहीं करेगी।

प्रदेश कंाग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा नोएडा एवं लखनऊ में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू किये जाने को लेकर कहा कि इस प्रकार के बदलाव से अपराधी नियंत्रण में नहीं आयेंगे, इसके लिए सरकार को अपनी नियत बदलनी होगी। उन्होने कहा कि जिस प्रकार प्रदेश में दो-दो उपमुख्यमंत्री बनाकर पूरे प्रदेश को नरक बना दिया है उसी प्रकार पुलिस अधिकारियेां का पदनाम बदलकर कानून व्यवस्था को सुधारने के नाम पर कुछ नहीं किया जा सकता है। सच्चाई तो यह है कि प्रदेश सरकार का इकबाल प्रदेश में पूरी तरह समाप्त हो चुका है।

Lucknow, Uttar Pradesh, India