अब बायोकॉन की चेयरपर्सन ने कहा, सरकार अर्थव्यवस्था को लेकर कोई आलोचना सुनना ही नहीं चाहती

अब बायोकॉन की चेयरपर्सन ने कहा, सरकार अर्थव्यवस्था को लेकर कोई आलोचना सुनना ही नहीं चाहती

नई दिल्ली: केन्द्र की मोदी सरकार की तीखी आलोचना करने वाले कारोबारी राहुल बजाज को अब मशहूर महिला कारोबारी किरन मजूमदार शॉ का समर्थन मिला है। किरन मजूमदार शॉ ने अपने एक ट्वीट में कहा है कि अर्थव्यवस्था को लेकर सरकार कोई आलोचना सुनना नहीं चाहती है। बायोटेक्नॉलोजी कंपनी बायोकॉन की चेयरपर्सन किरन मजूमदार शॉ ने एक ट्वीट कर कहा कि “उम्मीद है कि सरकार इंडिया इंक से बातचीत करेगी और खपत और मांग को बढ़ाने का पटरी पर लाने के लिए काम करेगी। अभी तक तो हम सभी से दूरी बनाकर रखी जा रही है और सरकार अर्थव्यवस्था को लेकर कोई आलोचना सुनना ही नहीं चाहती है।”

बता दें कि हाल ही में एक कार्यक्रम के दौरान कारोबारी राहुल बजाज ने कहा था कि “देश में ऐसा माहौल बनाया जाना चाहिए…जब यूपीए-2 की सरकार सत्ता में थी, हम किसी की भी आलोचना कर सकते थे… आप अच्छा काम कर रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद हमें विश्वास नहीं है कि यदि हम आपकी खुलेआम आलोचना करें तो आप हमें प्रोत्साहित करोगे।” राहुल बजाज ने ये बातें केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के सामने कहीं। राहुल बजाज ने मॉब लिंचिंग और प्रज्ञा ठाकुर द्वारा नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने पर भी चिंता जाहिर की थी।

राहुल बजाज के बेटे और बजाज ऑटो के एमडी राजीव बजाज ने भी एक बातचीत में कहा कि जब उनके पिता सरकार की आलोचना कर रहे थे, तब कोई भी उनका साथ नहीं दे रहा था। वो सिर्फ किनारे रहकर आनंद ले रहे थे। बता दें कि राजीव बजाज भी मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। साल 2017 में एक कार्यक्रम के दौरान राजीव बजाज ने कहा था कि नोटबंदी का विचार ही सही नहीं था, ऐसे में इसके क्रियान्वयन को दोष देना सही नहीं है।