पर्सनल लोन से पहले भुगतान की समय-सीमा तय करें

पर्सनल लोन से पहले भुगतान की समय-सीमा तय करें

पुणे, महाराष्ट्र: बजाज फिनसर्व की ऋण देने वाली शाखा, बजाज फाइनैंस लिमिटेड बेहद किफायती तरीके से personal loans प्रदान करता है, जिसका उपयोग किसी बड़े मद पर होने वाले व्यय के साथ-साथ अन्य जरूरतों को पूरा करने के लिए किया जा सकता है। बिना सिक्योरिटी के दिया जाने वाला यह लोन न केवल आसानी से उपलब्ध है, बल्कि यह लोन के तौर पर पर्याप्त धनराशि भी प्रदान करता है, जिसकी मदद से ज्यादातर जरूरतों को पूरा किया जा सकता है। इसके अलावा, कलैटरल से मुक्त होने के कारण इस लोन को तुरंत मंजूरी मिल जाती है और इसका वितरण भी शीघ्र किया जाता है, जिससे यह आपातकालीन समस्याओं से जूझ रहे ग्राहकों के लिए भी एक व्यवहार्य विकल्प बन जाता है।

हालांकि, जरूरत चाहे कैसी भी हो, लोन लेने वाले ग्राहकों को इसके पुनर्भुगतान की समय-सीमा पर अच्छी तरह विचार करना चाहिए, क्योंकि यह सीधे तौर पर ब्याज के रूप में आपके द्वारा किए जाने वाले खर्च से जुड़ा है। स्वाभाविक रूप से, ब्याज जितना अधिक होगा लोन भी उतना ही महंगा होगा, और इसलिए इनके बीच सही संतुलन बनाने का तरीका जानना बेहद महत्वपूर्ण है।

लोन लेने से पहले पुनर्भुगतान की समय-सीमा तय कर लें

लोन लेने की योजना बनाते समय पुनर्भुगतान की समय-सीमा तय करना, आवश्यक धनराशि को सुनिश्चित करने की तरह ही महत्वपूर्ण है। लोन लेने वाले ग्राहकों को अपनी आर्थिक क्षमताओं का सावधानीपूर्वक आकलन करना चाहिए और फिर ऐसी किस्त तय करनी चाहिए, जिसका भुगतान आसानी से किया जा सके। आमतौर पर, सबसे अच्छा यही होता है कि ग्राहक यह सुनिश्चित करें कि उनके ऋण का पुनर्भुगतान उनकी आमदनी के 35% से अधिक न हो, क्योंकि इस तरह अन्य मासिक खर्चों को आराम से पूरा किया जा सकता है, साथ ही आपातकालीन निधि में भी थोड़ा-बहुत योगदान किया जा सकता है।

इस धनराशि के बारे में सुव्यवस्थित तरीके से निर्णय लेने के लिए, ऋण लेने वाले ग्राहक

personal loan EMI calculator का उपयोग कर सकते हैं। यह ऑनलाइन टूल निःशुल्क उपलब्ध है, जो ऋण लेने वाले ग्राहक के ऋण की राशि और भुगतान हेतु चयनित समयावधि के अनुसार EMIs की गणना करता है। स्लाइडर का उपयोग करके ग्राहक इनपुट बदल सकते हैं, तथा अपनी भुगतान क्षमता के अनुरूप EMI का पता लगा सकते हैं। ऋण का पुनर्भुगतान की समय-सीमा चाहे कम हो या ज्यादा, दोनों के अपने-अपने फायदे और नुकसान हैं, इसलिए ग्राहकों के लिए किसी भी समय-सीमा को तय करने से पहले इस जानकारी पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

न्यूनतम समय-सीमा = ब्याज पर कम खर्च, लेकिन उच्च EMIs

लोन लेने वाले कई ग्राहक ब्याज पर होने वाले कुल खर्च की बचत के लिए भुगतान की कम समय-सीमा का चयन कर सकते हैं, लेकिन शायद यह निर्णय उनके लिए अनुकूल नहीं हो सकता है। इसकी वजह यह है कि, भुगतान की समय-सीमा कम होने से मासिक किस्त ज्यादा हो जाती है। ऐसे में लोन को चुकाने के लिए किस्तों का भुगतान करना मुश्किल हो सकता है, खासकर अगर ग्राहक की मासिक आमदनी का एक बड़ा हिस्सा किस्तों में चला जाए, या फिर उसने पहले भी लोन ले रखा है।

अधिकतम समय-सीमा = ब्याज पर अधिक खर्च, लेकिन कम EMIs

लोन के भुगतान की कम समय-सीमा के विपरीत, भुगतान की समय-सीमा अधिक होने से ब्याज पर होने वाला कुल खर्च बढ़ जाता है, लेकिन इस तरह मासिक किस्त छोटी हो जाती है। हालांकि इसकी मदद से लोन लेने वाले ग्राहक बड़े आराम से और सुरक्षित तरीके से इसका भुगतान कर सकते हैं, लेकिन इससे ऋण की कुल लागत बढ़ जाती है। हम यह भी जानते हैं कि, लोन के भुगतान की समय-सीमा अधिक होने से ग्राहकों को अपना क्रेडिट स्कोर बनाने में मदद मिलती है। लोन लेने की योजना बनाते समय ग्राहक को इन सभी कारकों पर अच्छी तरह विचार करना चाहिए, ताकि वे स्मार्ट तरीके से लोन लेने का निर्णय ले सकें।

बजाज फिनसर्व पर्सनल लोन के लिए आवेदन करने की योजना बनाते समय, मौजूदा वित्तीय दायित्वों तथा निकट भविष्य में खर्च की संभावनाओं जैसे मापदंडों पर विचार करने के बाद, ग्राहक को भुगतान की समय-सीमा और मासिक किस्तों के बीच संतुलन बनाने का लक्ष्य रखना चाहिए। इस प्रकार भुगतान में चूक का जोखिम कम होगा तथा EMIs की राशि यथासंभव कम होगी। अपनी आर्थिक क्षमताओं के अनुरूप ऋण के पुनर्भुगतान की समय-सीमा तय करने के बाद, ग्राहक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या लोन की तुरंत मंजूरी के लिए check their pre-approved loan offer कर सकते हैं।