बांग्लादेश कोच को दिल्ली के पॉलुशन से प्रॉब्लम नहीं

बांग्लादेश कोच को दिल्ली के पॉलुशन से प्रॉब्लम नहीं

नई दिल्ली: बांग्लादेश के कोच रसेल डोमिंगो ने स्वीकार किया कि यहां प्रदूषण के कारण हालात आदर्श नहीं हैं लेकिन कहा कि इससे ‘किसी की मौत नहीं होने वाली’ क्योंकि प्रदूषण उनके देश में भी समस्या है। डोमिंगो ने कहा कि भारत में खराब वायु गुणवत्ता का सामना करना उनके लिए उतनी बड़ी समस्या नहीं है जितनी कुछ अन्य देशों की टीमों के लिए है। शुक्रवार को सुबह अभ्यास सत्र के दौरान बांग्लादेश के खिलाड़ियों अल अमीन, अबु हिदेर रोनी और टीम के स्पिन सलाहकार डेनियल विटोरी को क्षेत्ररक्षण सत्र के दौरान मास्क पहने देखा गया।

डोमिंगो ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमें पता है कि श्रीलंका के खिलाड़ियों को पिछली बार जूझना पड़ा था और देखिए बांग्लादेश में भी थोड़ा प्रदूषण है, इसलिए कुछ अन्य देशों की तरह यह बेहद स्तब्ध करने वाली चीज नहीं है। खिलाड़ियों का ध्यान मैच पर है और उन्होंने इसे लेकर अधिक शिकायत नहीं की है।’’

स्थिति बेहतर होने पर हालांकि खिलाड़ियों ने अपने मास्क हटा दिया लेकिन विटोरी और सहयोगी स्टाफ में शामिल अन्य गैर बांग्लादेशी सदस्यों ने ऐसा नहीं किया। डोमिंगो ने कहा, ‘‘यह सिर्फ तीन घंटे की बात है इसलिए यह आसान रहेगा। आंखों में जलन, गले में खराब हो सकती है लेकिन यह कोई बड़ी समस्या नहीं है। कोई मरने नहीं वाला।’’

दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में शुक्रवार को प्रदूषण का स्तर ‘बेहद गंभीर’ श्रेणी में पहुंच गया जिसके बाद पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम एवं नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) ने जन स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा की। उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित पैनल ने सर्दियों के मौसम के दौरान आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगाने के अलावा पांच नवंबर तक सभी तरह के निर्माण कार्य को भी रोक दिया था। गुरुवार को बांग्लादेश के बल्लेबाज लिटन दास ने अभ्यास सत्र के दौरान कुछ समय के लिए मास्क पहना था लेकिन बाद में कहा कि उन्होंने ऐसा अपनी निजी स्वास्थ्य समस्या के कारण किया, प्रदूषण के कारण नहीं।

डोमिंगो ने स्वीकार किया कि स्थिति आदर्श नहीं है लेकिन यह दोनों टीमों के लिए समान है। कोच ने कहा, ‘‘हवा नहीं चल रही है लेकिन बेशक प्रदूषण के कारण मौसम आदर्श नहीं है। लेकिन यह दोनों टीमों के लिए समान है। परफेक्ट नहीं, आदर्श नहीं लेकिन आप इस बारे में शिकायत नहीं सकते और मैच के बारे में सोचना होगा।’’

जब भारत के बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ से मौजूदा हालात पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो उन्होंने कहा, ‘‘आप गलत व्यक्ति से पूछ रहे हैं। मैंने अपना पूरा क्रिकेट उत्तर भारत (पंजाब और हिमाचल प्रदेश) में खेला है। यह कोई विशेष चीज नहीं है। प्रदूषण है लेकिन मैच का कार्यक्रम रखा गया है और हमें खेलना होगा।’’

बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि अंतिम लम्हों में मैच रद्द नहीं किया जाएगा लेकिन भविष्य में व्यावहारिक कार्यक्रम तैयार करने का वादा करते हुए संकेत दिया कि दीपावली के बाद होने वाले मैचों के आयोजन स्थल के रूप में उत्तर भारत के स्थलों पर शायद विचार नहीं किया जाए।